मथुरा में आश्रम पर कब्जे को लेकर साधुओं के दो गुटों में हुई जमकर मारपीट, 10 से ज्यादा साधु घायल

Spread the News

मथुरा के वृंदावन इलाके में स्थित मोतीझील श्रीभूरी वाला आश्रम पर कब्जे को लेकर एक संत के पक्ष के लोगों ने आश्रम का मुख्य दरवाजा तोड़कर वहां मौजूदा महंत स्वामी दर्शनानंद और उनके अनुयायियों पर हमला कर उन्हें लहूलुहान कर दिया। मौके पर पहुंची वृंदावन पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया। आश्रम के संत ने बताया कि इस विवाद के चलते तीन पुलिसकर्मी आश्रम में तैनात हैं, जो कल से ही ड्यूटी अन्य जगह होने का हवाला देकर चले गए। इसके बाद से ही हमलावरों ने तांडव दिखाया।श्रीस्वामी भूमानंद सेवा ट्रस्ट द्वारा संचालित मोतीझील स्थित श्रीभूरी वाला आश्रम पर कब्जे को लेकर विवाद लंबे समय से चल रहा है। शुक्रवार को यह विवाद खूनी संघर्ष में तब्दील हो गया और स्वामी कृष्णानंद पक्ष के लगभग दो दर्जन से अधिक लोगों ने आश्रम का दरवाजा तोड़कर आश्रम के मौजूदा महंत स्वामी दर्शनानंद और उनके अनुयायियों पर हमला कर लहूलुहान कर दिया।

घायल स्वामी गौतमानंद गिरि ने बताया कि छह अक्तूबर की रात लगभग नौ बजे से स्वामी कृष्णानंद, प्रकाशानंद, रामतीर्थ, शुकदेव, रामानंद, आत्मानंद, कृष्ण कुमार शर्मा उर्फ लड्डूगोपाल आदि आश्रम के बाहर जमा हो गए और गाली-गलौज करते हुए आश्रम से बाहर निकलने का दबाव बनाते रहे। इसके बाद शुक्रवार को दोपहर 12 बजे इन लोगों की तरफ से आए 35-40 अज्ञात हमलावर जिनके हाथों में लाठी-डंडे, तलवार आदि थे। आश्रम का मुख्य दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हो गए और सभी पर हमले कर बाहर धकेलने लगे। इस संघर्ष में 8-9 लोग घायल हैं। वहीं स्वामी गौतमानंद, स्वामी दर्शनानंद, राज पांडेय, प्रांशु शर्मा गंभीर घायल हैं। एसपी सिटी मार्तंड प्रकाश सिंह ने बताया कि तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।