भारतीय नेताओं समेत विदेशी नेताओं ने चीन की स्थापना की 73वीं वर्षगांठ पर बधाई दी

Spread the News

हाल के दिनों में कई देशों के नेताओं और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों ने सीपीसी केंद्रीय कमेटी के महासचिव और राष्ट्रपति शी चिनफिंग आदि नेताओं को संदेश भेजकर चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 73वीं वर्षगांठ पर बधाई दी और 20वीं सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस के सफल आयोजन की कामना की।

भारतीय राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारत सरकार, भारतीय जनता और अपने नाम पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग ,चीन सरकार और जनता का हार्दिक अभिवादन व बधाई दी।उन्होंने राष्ट्रपति शी के साथ समान कोशिश कर द्विपक्षीय संबंधों का विकास आगे बढ़ाने की आशा जतायी । वहीं भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दो विकासशील देशों और नवोदित आर्थिक समुदायों के नाते भारत और चीन को इस क्षेत्र और विश्व के स्वस्थ व सक्रिय विकास में अहम भूमिका और जिम्मेदारी है ।शांत व स्थिर भारत-चीन संबंध अत्य़ंत महत्वपूर्ण हैं  ।भारतीय पक्ष चीन के साथ इसके लिए समान कोशिश करेगा । जबकि पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने कहा कि चीन अंतरराष्ट्रीय मंच पर शांति व सामंजस्य बढ़ाने का सक्रिय योददानकर्ता और दक्षिण-दक्षिण सहयोग का दृढ़ समर्थक बन चुका है ।इन महान उपलब्धियों का श्रेय चीनी नेताओं की दूर-दृष्टि और चीनी जनता की मेहनत को जाता है ।पाक चीन विशेष मित्रता युग और भू-राजनीति के परिवर्तन से प्रभावित नहीं होती ।

नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने 20वीं सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस के सुचारू आयोजन की शुभकामना दी। उन्होंने कहा कि दोनों देश पारस्परिक प्रभुसत्ता ,प्रादेशिक अखंडता और स्वतंत्रता का डटकर सम्मान करते हैं और एक-दूसरे की युक्तियुक्त चिंता तथा संवेदनशील मुद्दों को समझते हैं ,जो नेपाल चीन संबंधों का मूल रंग बन चुका है । फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमेनुअल मैंक्रो ने फ्रांसीसी जनता की ओर से चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 73वीं वर्षगांठ की बधाई दी।उन्होंने कहा कि फ्रांस और चीन को दोनों देशों के बीच चौतरफा रणनीतिक साझेदारी गहरा कर विभिन्न क्षेत्रों में व्यावहारिक सहयोग बढ़ाना चाहिए । इसके साथ ही फिलिपींस ,मलेशिया ,ब्रुनेई ,जिबोर्टी ,वेनेजुएला ,सिंगापुर ,सिरारेआन ,मालदीव आदि देशों के नेताओं ने भी बधाई संदेश भेजे ।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप,पेइचिंग)