भाजपा की डबल इंजन सरकार नहीं करा सकी चंबा का विकास : Pankaj Pandit

Spread the News

धर्मशाला: आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता पंकज पंडित ने कहा कि भाजपा की डबल इंजन सरकार चंबा का विकास कराने में पूरी तरह नाकाम रही है। चंबा जिला आज भी देश के पिछड़े जिलों में शामिल है। जिससे भाजपा की डबल इंजन सरकार के विकास के दावों की पोल खुल रही है। चंबा जिले में शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाएं बदहाल हैं। वहां पर सड़कों की हालत खस्ता है और जिले में कोई उद्योग न लगने से लोगों को रोजगार का कोई साधन नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा चंबा रुमाल और चंबा की थाल को बढ़ावा देने की बात बड़े बड़े मंच से करते हैं लेकिन चंबा की सांस्कृतिक धरोहर को विकसित करने के लिए कुछ नहीं किया।

जिससे चंबा जिला आज भी विकास के मामले में पिछड़ा है। जिससे साबित होता है कि जयराम सरकार के विकास के दावे खोखले हैं। पंकज पंडित ने कहा कि चंबा को भारत सरकार द्वारा पिछड़ा जिला घोषित किया गया है। नवंबर 2017 में चंबा जिले को पिछड़े जिले के रूप में चुना गया था जब प्रधान मंत्री ने विजन 2022 नीति के तहत देश के 115 सबसे पिछड़े जिलों के विकास के लिए एक कार्यक्रम शुरू किया था। चंबा जिला हिमाचल प्रदेश के सबसे पिछड़े क्षेत्रों में से एक है। केंद्र की रिपोर्ट साबित कर रही है कि चंबा जिले में विकास नहीं हुआ है। जिले के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिलती है। अस्पताल तो खोल दिए गए हैं लेकिन वहां न तो डॉक्टर हैं और न ही टेस्ट के लिए मशीने उपलब्ध है।

स्वास्थ्य के साथ-साथ शिक्षा की सुविधा भी बदहाल है। पूरे चंबा जिले में स्कूलों के भवन जर्जर हालत में हैं या किराए के मकान में चल रहे हैं। सैकड़ों स्कूल ऐसे हैं जिनमें एक टीचर के सहारे पांच कक्षाएं चल रहीं हैं। जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि भाजपा सरकार बच्चों को शिक्षा देने में नाकाम रही है। पंकज पंडित ने कहा कि चंबा के मेहनती लोग आज भी अपनी सांस्कृतिक विरासत को संजोए रखे हैं। चंबा रुमाल और चंबा की थाल ने विश्व में अपनी पहचान बनाई है। चंबा की पेंटिंग, चंबा की चुख और चंबा की चप्पल की भी अपनी पहचान है। लेकिन सरकार ने घरेलू उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कुछ नहीं किया। जिससे चंबा के लोगों को आर्थिक रुप से कोई फायदा नहीं हो सका है।