Haryana सरकार का फैसला: बाजरा खरीद होने पर किसानों को एकमुश्त 450 रुपए प्रति क्विंटल का भुगतान होगा

हरियाणा सरकार ने फैसला किया है कि प्रदेश में बाजरा की खरीद पर 450 रुपए प्रति क्विंटल का भुगतान किया जाएगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को यहां मीडिया सेंटर पर पत्रकारों से बात करते हुए यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि बाजरा की खरीद बेहतर तरीके से हो रही है। इस बार बाजरा का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2350 रुपए प्रति क्विंटल है। मंडियों में बाजरा 1850 रुपए प्रति क्विंटल से 1900 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रहा है। उन्होंने कहा कि दो साल पहले सरकार ने एमएसपी पर खरीद की थी। मगर पिछले साल भावांतर भरपाई योजना के तहत किसानों को खरीद का अंतर दिया था। उन्होंने कहा कि चूंकि मार्केट में भाव 1900 रुपए तक है जबकि न्यूनतम समर्थन मूल्य 2350 रुपए प्रति क्विंटल है। इस बार सरकार ने फैसला किया है कि किसानों का नुकसान न हो इसलिए ऐसे किसानों को सरकार 450 रुपए प्रति क्विंटल का भुगतान करेगी। उन्होंने कहा कि किसानों का पोर्टल पर पंजीकरण होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कई बार व्यापारी बाहर से बाजरा खरीद लाते हैं और यहां खरीदा हुआ दिखाने का प्रयास करते हैं। इसलिए सरकार ने एकमुश्त 450 रुपए प्रति क्विंटल का भुगतान करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि हैफेड भी बाजरा की खरीद कर रहा है। उनके लिए फैसला किया है कि जिन किसानों का बाजरा हैफेड खरीदेगा, उन्हें हैफेड खरीद कीमत और न्यूनतम समर्थन मूल्य 2350 रुपए के अंतर की भरपाई सरकार करेगी। यानी अगर हैफे ड 2000 रुपए प्रति क्विंटल बाजरा खरीदता है तो उन किसानों को 350 रुपए प्रति क्विंटल का भुगतान होगा। उन्होंने कहा कि 10 अक्तूबर, 2022 तक प्रदेश में 59,414 मीट्रिक टन बाजरा की खरीद हुई है।

बारिश 10 अक्तूबर तक बताई थी: मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि मौसम विभाग ने 10 अक्तूबर तक बारिश होने का अनुमान बताया था। मगर 11 अक्तूबर को भी बारिश हुई है। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद मंडियों में धान की खरीद सुचारू रूप से चल रही है। इसके लिए मंडियों में समुचित प्रबंध किए गए हैं। फसलों के उठान की व्यवस्था पुख्ता की गई है ताकि मंडियों में दूसरे किसान अपनी फसलें समय पर ला सकें। जिला उपायुक्त मंडियों का दौरा कर रहे हैं।

किसानों के लिए ई-खरीद हरियाणा मोबाइल ऐप
किसानों के लिए ई-खरीद हरियाणा मोबाइल ऐप किसानों की सुविधा के लिए ई-खरीद हरियाणा मोबाइल ऐप है। इससे किसानों को पंजीकृत फसलों की संख्या, गेट पास और खरीद के लिए लायी जा सकने वाली फसल की मात्रा के बारे में वास्तविक जानकारी मिल रही है। कोई भी किसान मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकृत अपने मोबाइल नंबर दर्ज करके यह विवरण प्राप्त कर सकता है। इस ऐप पर किसान अपनी शिकायत भी दर्ज करवा सकते हैं। इसके अलावा इस ऐप के माध्यम से किसान तुरंत कहीं भी, कभी भी जे-फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं। वह भुगतान की स्थिति भी देख सकते हैं। किसानों की मदद के लिए एक टोल फ्री नंबर भी साझा किया गया है। ऐप में जिला-विशिष्ट सूचनाएं भेजने की सुविधा भी है। इस अवसर पर परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा, सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री डॉ. कमल गुप्ता, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अरुण कुमार गुप्ता, सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग के प्रधान सचिव अनुराग अग्रवाल, महानिदेशक डॉ.अमित अग्रवाल, अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) वर्षा खंगवाल, संयुक्त निदेशक (प्रशासन) अमन कुमार और अन्य अफसर, मीडियाकर्मी भी थे।