आय से अधिक संपत्ति मामले में पंजाब Vigilance ने EO गिरीश वर्मा को किया गिरफ्तार

Spread the News

चंडीगढ़: पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने राज्य में भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहे अपने अभियान के दौरान कार्यकारी अधिकारी गिरीश वर्मा पूर्व में तैनात नगर परिषद, ज़ीरकपुर,शहीद अजीत सिंह नगर के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति होने पर का मामला दर्ज कर लिया है। इस मामले में भिखीविंड, अमृतसर के ईओ गिरीश वर्मा को कल अदालत में पेश किया जाएगा।

इसका खुलासा करते हुए विजिलेंस के प्रवक्ता ने बताया कि जांच के दौरान ईओ की 10 अलग-अलग संपत्तियां मिली हैं, जिन्हें ईओ ने अपनी पत्नी संगीता वर्मा और बेटे विकास वर्मा के अलावा अपने नाम पर खरीदा था। इसके अलावा उन्होंने अपने बेटे के नाम दो प्रॉपर्टी डिवेलपर फर्मों में भी 01 करोड़ 32 लाख रुपये का निवेश किया था। उन्होंने कहा कि विजिलेंस ब्यूरो उन अन्य व्यक्तियों की भी जांच करेगा जिन्होंने गिरीश वर्मा के परिवार के सदस्यों के खातों में बड़ी रकम ट्रांसफर की। उन्होंने आगे कहा कि ब्यूरो द्वारा आगे की जांच के दौरान आरोपी द्वारा एकत्र की गई अन्य गुप्त चल-अचल संपत्ति के साथ-साथ उसके उच्च सरकारी अधिकारियों और व्यवसायियों के साथ उसके संबंधों का पता लगाया जाएगा ताकि आरोपी द्वारा अपनी तैनाती के दौरान विभिन्न स्थानों पर किये गए निवेशों की जांच की जा सके।

उन्होंने आगे की जानकारी देते हुए कहा कि विजिलेंस ब्यूरो ने उक्त आरोपी की चल-अचल संपत्ति की जांच के लिए 01.04.2008 से 31.03.2021 तक की चेक अवधि निर्धारित की गई और जांच के दौरान यह पता चला है कि इस अधिकारी ने अपनी उक्त अवधि के दौरान सारे स्रोतों से प्राप्त 7,95,76,097/- रुपए प्राप्त किये और इस दौरान उस ने 15,11,15,448/- रुपये खर्च किए। इस प्रकार यह पाया गया कि उसने 7,15,39,352/- रुपये से अधिक खर्च किया जो उसकी आय का 89.90 प्रतिशत है और यह पैसा उसके द्वारा भ्रष्टाचार के माध्यम से जमा किया गया था। इसी जांच के आधार पर विजिलेंस ब्यूरो ने विजिलेंस ब्यूरो के थाने SAS नगर में मामला दर्ज किया है।

विजिलेंस प्रवक्ता ने बताया कि उक्त संदिग्ध अधिकारी द्वारा एक शोरूम संख्या न. 136, सेक्टर 14, अर्बन एस्टेट, पंचकूला को खरीदा गया है। इस संदिग्ध ने पंचकूला के सेक्टर 12, अर्बन एस्टेट, में मकान नंबर 432 खरीदा है। प्लॉट नंबर 21, डब्ल्यूडब्ल्यूआर सोसायटी, ब्लॉक-बी, ग्राम कांसल में संदिग्ध द्वारा अपनी पत्नी श्रीमती संगीता वर्मा के नाम पर क्रय हेतु बियाना किया गया है। इसके साथ ही लुधियाना में मकान नंबर बी 4 2047/1 चौडा बाजार को संदिग्ध ने अपनी पत्नी संगीता वर्मा के नाम पर अन्य व्यक्तियों के साथ खरीदा है। 150 वर्ग गज यूएस एस्टेट ढकोली जीरकपुर का एक कमर्शियल प्लॉट नंबर 14 को संदिग्ध ने अपनी पत्नी संगीता वर्मा के नाम पर खरीदा है।

संदिग्ध ने अपनी पत्नी संगीता वर्मा के नाम गांव खुदाल कलां में 19 कनाल 16 मरला जमीन खरीदी है। संदिग्ध की पत्नी संगीता वर्मा ने ज़ीरकपुर में शोरूम नंबर 25 ग्राउंड फ्लोर, सुषमा इंपीरियल, को 51 लाख रुपये में बुक किया है। शोरूम नंबर 26 ग्राउंड, फ्लोर सुषमा इंपीरियल, ज़ीरकपुर को उनके बेटे विकास वर्मा ने 49 लाख रुपये में 51 लाख रुपये में बुक किया है। यूएस एस्टेट ढकोली में एक कमर्शियल प्लॉट नंबर 16 एरिया 142.50 वर्ग गज संदिग्ध ने अपने बेटे विकास वर्मा के नाम पर खरीदा है।यूएस एस्टेट, ढकोली में 142.50 वर्ग गज क्षेत्रफल का एक कमर्शियल प्लॉट नंबर 17 को संदिग्ध ने अपने बेटे विकास वर्मा के नाम से खरीदा है। संदिग्ध के बेटे विकास वर्मा ने बालाजी इंफ्रा बिल्डटेक फर्म में 56 लाख रुपये का निवेश किया है। बालाजी डेवलपर खरड़ में संदिग्ध के बेटे विकास वर्मा द्वारा 76 लाख रुपये का निवेश किया गया है।