लोगों की सेहत से साथ समझौता नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने फूड सेफ्टी टीमों के साथ पटियाला-फतेहगढ़ साहिब में की चैकिंग

चंडीगढ़: पंजाब के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा ने आज फूड सेफ्टी टीमों का नेतृत्व करते हुए जि़ला पटियाला और फतेहगढ़ साहिब में अचानक चैकिंग की। इस मौके पर दूध से बने उत्पादों के 10 सैंपल लिए गए।

जौड़ामाजरा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार त्योहारों के मद्देनजऱ लोगों को मानक खाद्य पदार्थ मुहैया करवाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर पंजाब निवासियों की सेहत के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा और मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों पर बनती कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने बताया कि त्योहारों के सीजन को मुख्य रखते हुए यह चैकिंग अभियान आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इस सीजन में दूध का इस्तेमाल मिठाईयाँ बनाने, खोया बनाने, पनीर, घी बनाने के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि कुछ दुकानदार अपने लाभ के लिए दूध में मिलावट करते हैं। उन्होंने कहा कि मिलावटखोरों पर नकेल कसने के लिए यह विशेष मुहिम चलाई गई है।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि साझी फूड सेफ्टी टीम ने जि़ला पटियाला और फतेहगढ़ साहिब में दूध और दूध से बने उत्पादों की चैकिंग की। उन्होंने बताया कि सुबह 6 बजे से शुरू की गई यह चैकिंग मुहिम मिल्क क्लेकशन और चिलिंग सैंटरों, पनीर फैक्ट्री, फैक्ट्री के नजदीकी होटलों और मिठाई की दुकानों आदि में की गई, जहाँ से 10 अलग-अलग सैंपल लिए गए और यह सैंपल फूड ऐनालिस्ट लैबोरेट्री में भेजे गए हैं।

जौड़ामाजरा ने आगे बताया कि पंजाब सरकार किसी को भी पंजाब के लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ नहीं करने देगी, अगर किसी सैंपल में कोई मिलावट पाई गई तो उसके विरद्ध फूड सेफ्टी एक्ट के अधीन बनती कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि, ‘‘सही काम करने वालों को घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है, पंजाब सरकार का मकसद मिलावट करने वाले लोगों पर सख़्त कानूनी कार्रवाई करना और पंजाब के लोगों को अच्छी खाद्य वस्तुएँ उपलब्ध करवाना है।’’