नेत्रहीन को समाज में बेहतर ढंग से एकीकृत करने में मदद देती विशेष शिक्षा

Spread the News

इंटरनेशनल ब्लाइंड डे वर्ष 1984 में सऊदी अरब की राजधानी रियाद में आयोजित वर्ल्ड ब्लाइंड यूनियन की स्थापना बैठक में निर्धारित किया गया कि हर साल 15 अक्टूबर को इंटरनेशनल ब्लाइंड डे के रूप में मनाया जाएगा। इस बैठक में 80 देशों और क्षेत्रों के 348 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। साल 1984 में वर्ल्ड ब्लाइंड यूनियन का गठन हुआ, जो कि एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन है। वर्ल्ड ब्लाइंड यूनियन का उद्देश्य दुनिया भर के नेत्रहीन लोगों को समान अवसरों और अधिकारों के साथ सामाजिक जीवन में भाग लेने में सक्षम बनाना है जिसमें वर्तमान में 140 से अधिक सदस्य देश हैं और इसका मुख्यालय पेरिस में स्थित है।

आंकड़ों के मुताबिक, चीन में नेत्रहीन लोगों की संख्या एक करोड़ 70 लाख से अधिक है, यानी हर 82 लोगों में एक नेत्रहीन व्यक्ति है। साथ ही, चीन में हर साल 45 लाख नए नेत्रहीन और 13.5 लाख कम दृष्टि वाले रोगी सामने आते हैं। इसका मतलब यह है कि हर मिनट एक नेत्रहीन व्यक्ति और तीन कम दृष्टि वाले रोगी सामने आते हैं। नेत्रहीन लोगों को सामाजिक जीवन में बेहतर ढंग से एकीकृत करने और अपने व्यक्तिगत मूल्यों का एहसास करने के लिए उन्हें पहले शिक्षित होना चाहिए। शिक्षा का आम लोगों पर और इससे भी अधिक विकलांग लोगों पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। पिछले दस वर्षों में, चीन विशेष शिक्षा को बहुत महत्व देता है। 2021 में, चीन के विशेष शिक्षा स्कूल छात्रों को दाखिला देने की संख्या 149,100 थी। 2021 में स्कूल में छात्रों की संख्या 919,800 थी, वर्ष 2020 की तुलना में 39,000 की वृद्धि हुई। विकलांग बच्चों और किशोरों के लिए नौ साल की अनिवार्य शिक्षा को आम बनाना अभी भी चीन की विशेष शिक्षा और संपूर्ण शिक्षा के विकास की “सर्वोच्च प्राथमिकता” है।

वर्तमान में, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और सरकार के बहुत ध्यान के तहत चीनी विकलांग बच्चों की स्कूलों में दाखिला दर 95 प्रतिशत तक पहुंच गई है। साल 2025 तक स्कूलों में दाखिला दर 97 प्रतिशत तक पहुंच जाएगी। बता दें कि 18 सितंबर 1989 को, चाइना डिसेबल्ड पर्सन्स फेडरेशन ने एक नोटिस जारी किया जिसमें सभी क्षेत्रों को हर साल इंटरनेशनल ब्लाइंड डे के दौरान गतिविधि आयोजित करने की आवश्यकता है, जो अंधे व्यक्तियों के जीवन को सक्रिय बनाने और चीन व समाज की उनकी देखभाल को दर्शाता है।

 (साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)