पूर्व मंत्री Bharat Bhushan Ashu ने HC में दायर की याचिका, 22 सितंबर को दर्ज की गई FIR को रद्द करने की मांग की

Spread the News

चडीगढ़: टैंडर अलॉटमैंट घोटाले में फंसे पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु ने अब हाईकोर्ट में एक और याचिका दायर कर विजीलैंस ब्यूरो द्वारा उनके खिलाफ 22 सितंबर को दर्ज की गई एफ.आई.आर. रद्द किए जाने की मांग की है। इस याचिका पर हाईकोर्ट सोमवार को सुनवाई कर सकता है। बता दें कि विजीलैंस द्वारा उनके खिलाफ 16 अगस्त को पहले ही एक एफ.आई.आर. दर्ज की गई है। इस मामले में आशु ने अपनी नियमित जमानत की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।

इस याचिका पर हाईकोर्ट 27 सितंबर को सभी पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख चुका है। अब भारत भूषण आशु ने सीनियर एडवोकेट बिपिन घई के जरिए अपने खिलाफ 22 सितंबर को जो एफ.आई.आर. दर्ज की है उसे रद्द किए जाने की मांग की है। इस याचिका में याचिकाकर्त्ता का कहना है कि पहले ही इसी मामले में उनके खिलाफ एफ.आई.आई. दर्ज है, उसके बाद फिर एक और एफ.आई.आर. 22 सितंबर को दर्ज कर दी गई है। यह सीधे तौर पर कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है। ऐसे में इस एफ.आई.आर. को रद्द किया जाए।