चीन की अंतरिक्ष अन्वेषण की नई यात्रा शुरू

Spread the News

चीन की चंद्र अन्वेषण योजना वर्ष 2004 में शुरू हुई, जिसका नाम है छांगअ योजना। 15 साल पहले यानी 24 अक्तूबर 2007 को चीन के पहले चंद्रमा परिक्रमा उपग्रह छांगअ-1 का सफल प्रक्षेपण किया गया। चीन दुनिया में गहरे अंतरिक्ष अन्वेषण करने की क्षमता वाले कुछ देशों में से एक बना। उसके बाद छांगअ-2 काम के लक्ष्य से आगे बढ़ गया। छांगअ-3 सफलता से चांद पर उतरा। छांगअ-4 ने मानव के इतिहास में पहली बार चंद्रमा के पृष्ठ पर अंतरिक्ष यान की सॉफ्ट लैंडिंग और गश्ती अन्वेषण पूरा
किया। छांगअ-5 का रिटर्नर चंद्रमा के नमूनों के साथ सफलतापूर्वक पृथ्वी पर लौट आया। चीन ने दुनिया के चंद्र अन्वेषण के इतिहास में कमाल किया। पिछले दस सालों में चीन ने पेइतो व्यवस्था के वैश्विक नेटवर्क का गठन, छांगअ-5 की नमूनों के साथ वापसी, थ्येनवन-1 मंगल रोवर का प्रक्षेपण आदि कई बड़ी उपलब्धियां हासिल कीं। चीन ने मजबूत अंतरिक्ष देश बनाने की नई यात्रा शुरू की।

अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के लिए चीनी अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी निगम की युवा टीम को दिए गए जवाबी पत्र में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि थ्येनकोंग अंतरिक्ष स्टेशन, पेइतो उपग्रह और छांगअ उपग्रह से थ्येनह कोर केबिन, थ्येनवन मंगल रोवर और शिह सौर अन्वेषण उपग्रह तक चीन के अंतरिक्ष कार्य के नए इतिहास
बार-बार बनाए गए। पिछले दस सालों में शी चिनफिंग चीन के अंतरिक्ष कार्य के विकास पर बड़ा ध्यान देते रहे हैं। उन्होंने कई बार उपग्रह प्रक्षेपण केंद्रों का दौरा
किया, अंतरिक्ष यात्रियों और कर्मचारियों के साथ मुलाकात की और महत्वपूर्ण योजना बनाई। शी चिनफिंग ने कहा कि अंतरिक्ष कार्य का विकास करना और
मजबूत अंतरिक्ष देश बनाना हमारा अंतरिक्ष सपना है, जिसे साकार करने के लिए काफी प्रयास करने पड़ते हैं। चाहे स्थिति में कोई परिवर्तन क्यों न आए, हमें आत्म-निर्भर और मेहनत रहने की इच्छा नहीं छोड़नी चाहिए।

अंतरिक्ष कर्मचारियों को कठिनाई दूर कर प्रौद्योगिकी के शिखर पर चढ़ने का साहस होना चाहिए, ताकि शीघ्र ही मजबूत अंतरिक्ष देश बनाने का सपना साकार हो सके।
शी चिनफिंग ने व्यापक वैज्ञानिकों और अंतरिक्ष कर्मचारियों को विश्व अंतरिक्ष कार्य बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास करने को प्रोत्साहित भी किया, ताकि अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण प्रयोग और मानव समुदाय के साझे भविष्य के निर्माण में चीन की ज्यादा बुद्धिमत्ता, प्रस्ताव और शक्ति दी जा सके। अंतरिक्ष कार्य मानव जाति का समान कार्य है। विशाल ब्रह्मांड का अन्वेषण मानव जाति का समान सपना है। पूर्व योजनानुसार इस साल चीन अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण पूरा करेगा, थ्येनचो-4 व थ्येचो-5 मालवाहक अंतरिक्ष शटल और वनथ्येन व मंगथ्येन प्रायोगिक केबिन का प्रक्षेपण करेगा। चीन लगातार विभिन्न देशों के साथ आदान-प्रदान और सहयोग मजबूत करेगा, ताकि और व्यापक लोगों को अंतरिक्ष उपलब्धियों से फायदा मिल सके।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)