छठ मैय्या को समर्पित लोक गीत का ज्ञानचंद गुप्ता ने किया लोकार्पण, कहा-भारतीयों के प्रकृति प्रेम को प्रकट करता है यह पर्व

चंडीगढ़: हरियाणा विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने शुक्रवार को छठ पर्व के पहले दिन नहाए खाये अनुष्ठान के मौके पर छठ मैय्या को समर्पित लोक गीत का लोकार्पण किया। यह गीत हरियाणा सर्किल की मुख्य डाक महाप्रबंधक रहीं रंजू प्रसाद ने गाया है। इस अवसर पर पूर्व गृह सचिव डॉ. एसएस प्रसाद और पूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारी मौजूद रहे। इसके साथ ही विधान सभा अध्यक्ष ने प्रदेशवासियों को छठ पर्व की शुभकामनाएं भी दी हैं।


ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि छठ पूजा का पर्व हम भारतीयों के प्रकृति प्रेम और अपने परिजनों के प्रति समर्पण भाव को दर्शाता है। इस पर्व पर हम ऊर्जा के मूल स्रोत सूर्य भगवान की उपासना करते हैं। छठ पर्व शरीर और मन को साधने की कड़ी साधना भी है। गीत की गायिका पूर्व मुख्य डाक महाप्रबंधक रंजू प्रसाद ने कहा कि छठ मैया का व्रत सीता जी और राम जी ने भी किया था। यह एक बहुत कठिन व्रत है और इसमें 36 घंटे निर्जल उपवास रखा जाता है। पूरे 4 दिन की यह एकमात्र पूजा है, जिसमें डूबते सूरज को अर्घ्य दिया जाता है। वस्तुतः यह प्रकृति की पूजा है। इस गीत के माध्यम से छठ के महत्व को भक्तों के सामने रखा गया है। इसकी शूटिंग पंचकूला के सेक्टर 21 स्थित छठ घाट और सेक्टर 20, 21, 25, 26 की महिलाओं, बच्चों एवं अन्य श्रद्धालुओं के साथ की गई है।

गौरतलब है कि रंजू प्रसाद के गीतों में महान सूर्योपासना के पर्व छठ का महत्व एवं भक्ति की वास्तविकता परिलक्षित होती हैं। रंजू प्रसाद कला एवं लोक गीतों के माध्यम से माटी से जुड़ी हुई है और उसकी सुगंध उनके गीतों में दिखती है।