Haryana के मुख्यमंत्री Manohar Lal की घोषणा: CET उम्मीदवारों का बसों में नहीं लगेगा किराया

Spread the News

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने घोषणा की है कि ग्रुप सी पदों के लिए आगामी 5-6 नवंबर को होने वाले कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट (सीईटी) के लिए उम्मीदवारों को बसों में कोई किराया नहीं देना होगा। उन्होंने सोमवार को यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि उम्मीदवार बसों में सिर्फ अपना एडमिट कार्ड दिखाएंगे और यात्रा करेंगे। इस पर दैनिक सवेरा ने पूछा कि इसका मतलब है कि एडमिट कार्ड दिखाने पर उनसे कोई किराया नहीं लिया जाएगा? मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि उनसे कोई किराया नहीं लिया जाएगा। इसके साथ ही दैनिक सवेरा की खबर पर मोहर लग गई है। दैनिक सवेरा ने गत 22 अक्तूबर के अंक में यह जानकारी दी थी कि उम्मीदवारों से कोई किराया नहीं लिया जाएगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आगामी 5-6 नवंबर को जो सीईटी होगा, वह ग्रुप सी पदों के लिए होगा। जो उम्मीदवार इसमें पास होंगे, उनमें से वे उम्मीदवार हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ग्रुप सी विज्ञापित होने वाले पदों के लिए संख्या अनुसार चार गुना आवेदन कर सकेंगे। फिर उनकी हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग लिखित परीक्षा लेगा। उसमें मेरिट अनुसार चयन सूची जारी कर दी जाएगी। कोई साक्षात्कार नहीं होगा। दैनिक सवेरा ने पूछा कि सीईटी तो हर साल होना है? मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि यह हर साल होगा। मगर इस साल चूंकि ग्रुप डी के लिए सीईटी नहीं हुआ है, इसलिए अगले साल पहले ग्रुप डी पदों के लिए सीईटी होगा। उसके बाद ग्रुप सी पदों के लिए सीईटी होगा। उन्होंने कहा कि चूंकि वन टाइम रजिस्ट्रेशन हुआ है इसलिए उम्मीदवार तीन साल तक इसी फीस में सीईटी स्कोर को बढ़ाने के लिए टेस्ट दे सकता है। इसकी वैधता तीन साल होगी। उन्होंने कहा कि एनटीए ने कहा कि डेढ़ महीने के भीतर सीईटी का परिणाम दे देंगे। उम्मीद का जाती है कि 15 दिसंबर, 2022 तक परिणाम आ जाएगा।

सीईटी रद्द होने का फेक मैसेज वायरल पर आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने लिया संज्ञान
सोशल मीडिया पर 30 अक्तूबर की रात और 31 अक्तूबर की सुबह एक पत्र तेजी से वायरल हो गया। इसमें सीईटी परीक्षा रद्द होने का जिक्र था। इस पर हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के अध्यक्ष भोपाल सिंह खदरी ने तुरंत संज्ञान लिया। उन्होंने वीडियो मैसेज जारी किया। उन्होंने वीडियो में कहा कि यह पत्र फेक है। सीईटी परीक्षा 5-6 नवंबर को अपने पूर्व निर्धारित तिथि पर होंगी। ये परीक्षाएं दोनों दिन चार शिμटों में होंगी। उन्होंने कहा कि 31 अक्तूबर से मोबाइल पर जिलों के एसएमएस भेजे जाएंगे, जिनमें यह जानकारी होगी कि उम्मीदवार की परीक्षा किस जिले में होगी। उन्होंने कहा कि 2 नवंबर को एडमिट कार्ड डाउनलोड होंगे।

ग्रुप डी के लिए सीईटी अलग होगा, सीईटी स्कोर के आधार पर चयन होगा
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि ग्रुप डी पदों के लिए सीईटी अलग होगा। उन्होंने कहा कि चूंकि ग्रुप सी के लिए सीईटी में 12वीं योग्यता है जबकि ग्रुप डी सीईटी के लिए 10वीं योग्यता है। इसलिए ग्रुप डी में 10वीं और 12वीं वाले आवेदन कर सकते हैं जबकि 10वीं वाले केवल ग्रुप डी के लिए आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि ग्रुप डी के लिए जब सीईटी होगा, उसमें जो स्कोर आएगा, उन उम्मीदवारों में से ग्रुप डी पदों के लिए आॅप्शन मांगे जाएंगे। मेरिट आधार पर चयन सूची जारी हो जाएगी। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग अलग से परीक्षा नहीं लेगा। दैनिक सवेरा ने पूछा कि जो उम्मीदवार ग्रुप सी का सीईटी पास कर लेंगे, क्या उन्हें ग्रुप डी पदों के लिए सीईटी देना पड़ेगा? मुख्यममंत्री मनोहर लाल ने साफ किया कि ग्रुप डी का सीईटी अलग होगा। इसलिए अगर किसी ने ग्रुप सी का सीईटी पास कर रखा है तो भी उसे ग्रुप डी का सीईटी पास करना होगा। दोनों सीईटी अलग-अलग हैं। उन्होंने कहा कि सीईटी के लिए 11,36,837 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया हुआ है।

परिवहन विभाग करेगा बसों की व्यवस्था
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि सीईटी के लिए प्रयास रहेगा कि उम्मीदवारों को निकटवर्ती जिले में परीक्षा देने जाना होगा। अगर निकटवर्ती में संभव नहीं हुआ तो उस निकटवर्ती जिले के निकटवर्ती जिले में जाना होगा। इसके लिए परिवहन विभाग बसों की व्यवस्था करेगा। उन्होंने कहा कि जिला या उपमंडल मुख्यालयों पर उम्मीदवार बसों में जाएंगे। वहां से परीक्षा केंद्रों तक जिला उपायुक्त शटल सेवा के जरिए उम्मीदवारों को पहुंचाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए स्थानीय स्तर पर जिला उपायुक्त बसों या वाहनों का प्रबंध करेंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि वे प्रदेश की जनता से अपील करते हैं कि 5-6 नवंबर को घरों से कम निकलें और बस में सफर कम से कम करें।

2 नवंबर को एडमिट कार्ड, 31 अक्तूबर से मोबाइल पर जिले का एसएमएस+: वी. उमाशंकर
मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रधान सचिव वी. उमाशंकर ने दैनिक सवेरा के पूछने पर बताया कि सीईटी के लिए उम्मीदवारों को 31 अक्तूबर से मोबाइल पर एसएमएस भेजा जा रहा है कि उनकी परीक्षा किस जिले में होगी। उन्होंने कहा कि आगामी 2 नवंबर तक उन्हें परीक्षा केंद्र की भी जानकारी दे दी जाएगी। उन्होंने कहा कि एडमिट कार्ड 2 नवंबर से डाउनलोड होना शुरू हो जाएंगे। दैनिक सवेरा ने पूछा कि परिवहन विभाग का वह पोर्टल कब शुरू होगा, जिस पर उम्मीदवारों ने पंजीकरण करना है? वी. उमाशंकर ने कहा कि पोर्टल 2 नवंबर से शुरू हो जाएगा। दैनिक सवेरा ने पूछा कि इससे तो पोर्टल हैंग हो सकता है क्योंकि एक साथ 11 लाख उम्मीदवार पंजीकरण करेंगे? मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव ने कहा कि हैंग हो सकता है। मगर पोर्टल पर पंजीकरण हुए बगैर भी उम्मीदवार सफर कर सकते हैं।