UP के प्रिंसिपल ने पढ़ाई कराने का अपना नया तरीका, ‘A’ फॉर ‘अजरुन’ और ‘B’ फॉर ‘बलराम’ का दिया सुझाव

लखनऊः लखनऊ के एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल का पढ़ाई कराने का अपना तरीका है, जो कि काफी अलग है। इसके चलते विवाद भी खड़ा हो गया है क्योंकि प्रिंसिपल द्वारा व्हाट्सएप पर साझा की गई एक पीडीएफ फाइल में कई सारी शिक्षा के क्षेत्र में अलग बाते सामने आई है। यह फाइल दिखाती है कि छात्रों को हिंदू पौराणिक पात्रों, हिंदू देवताओं और ऐतिहासिक आंकड़ों से जोड़कर अंग्रेजी वर्णमाला के अक्षरों को कैसे पढ़ाया जाए। यह फाइल सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है और इसे खूब देखा जा रहा है।

अमीनाबाद इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल साहेब लाल मिश्र ने हाल ही में पीडीएफ फाइल साझा की थी जिसमें लिखा था ‘ए फॉर अजरुन’, ‘बी फॉर बलराम’ (कृष्ण के भाई), ‘सी फॉर चाणक्य’, ‘डी फॉर ध्रुव’, और इसी तरह आगे भी है। यह पारंपरिक ‘ए फॉर एप्पल’, ‘बी फॉर बॉल’, ‘सी फॉर कैट’ आदि से स्पष्ट प्रस्थान है। मिश्र अंग्रेजी वर्णमाला में दीक्षा के साथ-साथ भारतीय पौराणिक कथाओं के परिचय के पक्ष में हैं।

बाद में शूट किए गए एक वीडियो में, प्रिंसिपल को यह कहते हुए सुना जाता है, ‘‘आज, हमारे बच्चे हमारी भारतीय संस्कृति से दूर जा रहे हैं। हमारे समय में, दादा-दादी थे जो हमें अपनी विरासत और संस्कृति के बारे में कहानियां सुनाते थे। मोबाइल के युग में प्रौद्योगिकी जब हर कोई अपनी दुनिया में व्यस्त है, छोटे बच्चे अपनी संस्कृति से अनजान हैं।’’

मिश्र ने कहा, ‘‘यह मेरे दिमाग में आया कि अगर हम एक ऐसी किताब के साथ आ सकते हैं जहां बच्चों को सेब के लिए ए या लड़के के लिए बी कहने के बजाय, हम अपनी भारतीय संस्कृति के बारे में थोड़ा विवरण के साथ उल्लेख कर सकते हैं, तो यह सिखाने का एक शानदार तरीका होगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अच्छा होगा कि प्रकाशक इन पंक्तियों के साथ एक किताब छापें और अगर कोई स्कूली छात्र को इस तरह से अंग्रेजी वर्णमाला पढ़ाना चाहता है, तो उसे पढ़ने दिया जाए।’’ हालांकि, उन्होंने कहा कि वह अमीनाबाद इंटर कॉलेज में इस दृष्टिकोण को लागू नहीं कर सकते क्योंकि वहां कक्षाएं 6 से शुरू होती हैं और इस ‘स्वदेशी पद्धति’ को केवल प्राथमिक स्तर पर ही नियोजित किया जा सकता है।

लखनऊ विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग के एक प्रोफेसर ने समझाया, ‘‘उचित नामों के माध्यम से अक्षरों को सीखने से हमें बहुत सीमित ज्ञान मिलता है। इसलिए, सेब के लिए ए और लड़के के लिए बी जैसे सामान्य शब्द एक बेहतर विचार है। हमें अपने विशेष के संदर्भ में ओवरबोर्ड नहीं जाना चाहिए। राष्ट्रीय गौरव की समझ। हम बच्चों के बड़े होने पर उनकी समझ के लिए आसान और परिचित ध्वनियों और शब्दों की तलाश करते हैं। हमें वैश्विक नागरिकता के अपने आदर्शो को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक तटस्थ शब्दों में पढ़ाना चाहिए।’’