चाइना एयरशो: चीनी वायु सेना के सबसे प्रगतिशील विमान प्रदर्शित

Spread the News

14वीं चीनी अंतर्राष्ट्रीय विमानन और एयरोस्पेस प्रदर्शनी (एयर शो चाइना) 8 से 13 नवंबर तक दक्षिण चीन के झुहाई शहर में आयोजित की जा रही है। संयोग से, 11 नवंबर को पीएलए की वायु सेना की स्थापना की 73वीं वर्षगांठ है। चीनी वायु सेना ने इस बार एयर शो में अपने सबसे नवीन और अभिनव विमानों को प्रदर्शित किया है, जिसमें जे-20 लड़ाकू विमान, वाईवाई-20 टैंकर विमान, अटैक-2 ड्रोन आदि शामिल हैं।

एयरशो के उद्घाटन समारोह में चार जे-20 लड़ाकू विमानों ने फोर्मेशन किया और कम ऊँचाई पर उड़ान भरी। उन्होंने सीधी चढ़ाई की उड़ान, तीखे मोड़, लगातर उलटबाजी सहित कई करतब भी किये, जिन्हें दर्शकों से खूब वाहवाही मिली। जे-20 चीन द्वारा निर्मित पांचवीं पीढ़ी वाला लड़ाकू विमान है। गौरतलब है कि यह एक स्टील्थ लड़ाकू विमान है, जो रडार से बचने की मजबूत क्षमता रखता है। खबर है कि ज्यादा से ज्यादा जे-20 चीनी वायुसेना में शामिल हो रहे हैं। इधर, कुछ वर्षों तक चीन के पूर्वी सागर, दक्षिण सागर और थाइवान जलडमरूमध्य में जे-20 का नजारा देखने को मिला। जे-20 नए दौर में चीन की रक्षा में अहम भूमिका निभा रहा है। इस एयर शो में चीनी वायु सेना के नए तेल आपूर्ति विमान वाईवाई-20 ने पहली बार सार्वजनिक उड़ान का प्रदर्शन किया। इसने कम ऊंचाई पर उड़ान भरी और आकाश में अपनी तीन फिलिंग ट्यूब भी दिखाई। वाईवाई-20 चीन में विकसित बड़े आकार वाला पहला टेंकर विमान है। यह चीनी वायु सेना के लंबी दूरी के संचालन को सुनिश्चित कर सकता है। इसके अलावा, यह वाईवाई-20 परिवहन विमान की तरह एयरड्रॉप (एक विमान से पैराशूट द्वारा आपूर्ति, सैनिकों या उपकरणों को गिराने की क्रिया) कार्य पूरा कर सकता है।

आधुनिक युद्ध में ड्रोन अहम भूमिका निभाते हैं। इस एयर शो में चीनी वायुसेना ने अटैक-2 ड्रोन और टोही-8 ड्रोन समेत कई तरह के ड्रोन दिखाए हैं। अटैक-2 ने पहली बार उड़ान भरी। वह चीन में विकसित मध्यम व ऊंचे आकाश में टोही व अटैक दोनों कार्य पूरा करने वाला ड्रोन है, जिसे सीमा पर गश्त और आतंकवाद विरोधी के लिए एक महत्वपूर्ण सैन्य उपकरण माना जाता है। टोही-8 ड्रोन एक उच्च गति वाला विमान है जो आसमान में ऊंची उड़ान भरता है। वह दुश्मन की मजबूत रक्षात्मक रेखा को पारकर हाई-रिजलूशन चित्र खींच सकता है, जो विभिन्न टुकड़ियों के लिए सटीक सूचनाएं प्रस्तुत करता है। बताया गया है कि चीनी वायु सेना की ड्रोन टुकड़ी को गहन युद्धाभ्यास व्यवस्था में एकीकृत किया गया है। चीनी वायु सेना चौतरफा युद्धक क्षमता के विकास में तेजी से प्रगति दिखा रही है।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप,पेइचिंग)