टी-20 विश्व कप जीतने के लिए आखिरी पड़ाव, आज फाइनल मुकाबले में आमने-सामने होंगे पाकिस्तान और इंग्लैंड

मेलबर्न: आज टी20 विश्व कप 2022 का फाइनल मुकाबला पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच है। पाकिस्तान के लिए टी-20 विश्व कप 2022 की शुरुआत एक बुरे सपने की तरह हुई थी, लेकिन इस सपने के बाद उनकी आंखें खुल गईं और बाबर आजम की टीम ने फाइनल के रास्ते में आई हर रुकावट को सफलतापूर्वक पार कर लिया। पूरे टूर्नामैंट में जहां पाकिस्तान की गेंदबाजी उनका मजबूत पक्ष रही है, यह कहना गलत नहीं होगा कि फखर जमान की जगह टीम में आए मोहम्मद हारिस ने उनकी बल्लेबाजी को गति प्रदान की है।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना टी20 विश्व कप पदार्पण करते हुए 21 वर्षीय हारिस ने सिर्फ 11 गेंदों पर 28 रन बनाकर टीम के अन्य साथियों को दिखा दिया कि खेल के सबसे छोटे प्रारुप में किस तरह बल्लेबाजी की जाती है। बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान की सलामी जोड़ी जहां पाकिस्तान को एक मजबूत शुरुआत देने की क्षमता रखती है, वहीं हारिस, इफ्तिखार अहमद और शादाब खान की विस्फोटक बल्लेबाजी टीम को बड़े स्कोर की ओर ले जाने के लिए जिम्मेदार होगी। चोट से उभर कर टीम में वापस आए शाहीन भले ही अपने पूरे रंग में न हों, लेकिन हारिस राऊफ, मोहम्मद वसीम जूनियर और नसीम शाह का अच्छा प्रदर्शन बाबर के एक हाथ को विश्व कप ट्रॉफी पर पहुंचा देगा। दूसरी ओर, अपने दूसरे सुपर-12 मैच में आयरलैंड से हारने के बाद इंगलैंड ने भी टूर्नामैंट में अच्छी वापसी की है, और सैमीफाइनल में भारत को 10 विकेट से रौंदकर दिखा दिया है कि वह किस हद तक हावी होने की क्षमता रखते हैं।

इंगलैंड की ताकत उनकी बल्लेबाजी है, हालांकि आदिल राशिद और लायम लिविंगस्टन की लेग-स्पिन जोड़ी उन्हें मध्य ओवरों में रन रोकने का अच्छा विकल्प देती है। इंगलैंड का मध्यक्रम भले ही टूर्नामैंट में कुछ कमाल न कर सका हो, लेकिन जॉस बटलर को उम्मीद होगी कि लिविंगस्टन और मोइन अली जैसे विस्फोटक बल्लेबाज खिताबी मैच में उन्हें निराश नहीं करेंगे। बटलर की नज़र उनके श्रेष्ठतम ऑलराऊंडर बेन स्टोक्स पर भी होगी, जो टीम में बहुमूल्य अनुभव लेकर आते हैं। टी20 विश्व कप में दोनों टीमें सिर्फ दो बार आमनेसामने आई हैं और दोनों मैच इंगलैंड की झोली में गए हैं। पाकिस्तान (2009) और इंगलैंड (2010) दोनों ने ही एक-एक बार टी20 विश्व कप जीता है।