शी चिनफिंग ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों से मुलाकात की

Spread the News

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 15 नवंबर को इंडोनेशिया के बाली द्वीप में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से भेंट की। इस दौरान शी चिनफिंग ने कहा कि पिछले 3 वर्षों में हम दोनों ने विभिन्न तरीकों से घनिष्ठ संपर्क कायम रखा है, जिससे चीन-फ्रांस संबंधों का सक्रिय रूझान बना हुआ है और दोनों देशों के बीच प्रमुख सहयोगों में सकारात्मक प्रगति हासिल हुई है। वर्तमान में दुनिया उथल-पुथल के नए दौर में प्रवेश कर चुकी है। दुनिया के बहु-ध्रुवीकरण पैटर्न में दो महत्वपूर्ण ताकतों के रूप में चीन-फ्रांस और चीन-यूरोप को स्वतंत्रता, खुलेपन और सहयोग की भावना का पालन करते हुए द्विपक्षीय संबंधों को सही रास्ते पर स्थिर और दीर्घकालिक विकास के लिए बढ़ावा देना चाहिए।

शी चिनफिंग ने बल देते हुए कहा कि चीन अडिग रूप से बाहरी दुनिया के लिए उच्च स्तरीय खुलेपन को बढ़ावा देता है, चीनी शैली के आधुनिकीकरण को बढ़ावा देने का प्रयास करता है, और फ्रांस सहित दुनिया भर के देशों को नए अवसर प्रदान करता है। दोनों पक्षों को भविष्य पर ध्यान केंद्रित करते हुए शीर्ष-स्तरीय डिजाइन बनाना चाहिए, एक-दूसरे के मूल हितों और प्रमुख चिंताओं का सम्मान करना चाहिए, व्यावहारिक सहयोग को गहरा करना चाहिए, पारंपरिक क्षेत्रों में निरंतर नई प्रगति की प्राप्ति को बढ़ावा देना चाहिए, और सक्रिय रूप से हरित ऊर्जा एवं तकनीकी नवाचार आदि क्षेत्रों में सहयोग की निहित शक्ति की खोज करनी चाहिए। चीन को आशा है कि फ्रांस अपने देश में चीनी उद्यमों के विकास के लिए एक अधिक निष्पक्ष, न्यायसंगत और गैर-भेदभावपूर्ण व्यावसायिक वातावरण प्रदान करेगा।   

उन्होंने बल देते हुए कहा कि कई वर्षों के विकास से चीन और यूरोप ने एक मजबूत आर्थिक साझेदारी कायम की है। दोनों पक्षों को दोतरफा व्यापार और निवेश का विस्तार करना चाहिए, वैश्विक औद्योगिक और आपूर्ति श्रृंखलाओं की स्थिरता और सुचारू प्रवाह बनाए रखना चाहिए और अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक व व्यापारिक नियमों व व्यवस्था को बनाए रखना चाहिए। आशा है कि फ्रांस यूरोपीय संघ को चीन के प्रति एक स्वतंत्र और सक्रिय नीति को जारी रखने के लिए प्रेरित करेगा। इसके साथ ही चीन फ्रांस के साथ मिलकर इंडोनेशिया के अध्यक्षीय कार्य का समर्थन करना, जी20 बाली शिखर सम्मेलन की सफलता को बढ़ावा देना चाहता है। जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता संरक्षण आदि क्षेत्रों में संपर्क और सहयोग को मजबूत करना, संयुक्त रूप से वास्तविक बहुपक्षवाद की रक्षा करना चाहता है। इसके साथ ही खाद्य सुरक्षा व ऊर्जा सुरक्षा की रक्षा करने सहित वैश्विक चुनौतियों का मुकाबला तथा अनवरत विकास की मुश्किल को दूर करना चाहता है।  

मुलाकात में मैक्रों ने शी चिनफिंग को एक बार फिर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति का महासचिव बनने पर बधाई दी और कहा कि फ्रांस और चीन विश्व शांति व विकास, और वैश्विक आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। चीनी शैली का आधुनिकीकरण विकास मॉडल प्रशंसनीय है। फ्रांस स्वतंत्र कूटनीति का समर्थन करता है और शिविर टकराव का विरोध करता है। वर्तमान उथल-पुथल वाली अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति में फ्रांस को आशा है कि चीन के साथ आपसी सम्मान, समानता और पारस्परिक लाभ की भावना का पालन करते हुए उच्च स्तरीय आवाजाही को घनिष्ठ बनाया जाएगा, दोनों देशों के बीच अर्थतंत्र, व्यापार, विमानन, और असैन्य परमाणु ऊर्जा आदि क्षेत्रों में सहयोग को गहराया जाएगा। वही फ्रांस अपने देश में चीनी उद्यमों का सहयोग करने आने का स्वागत करता है। 

मैक्रों ने यह भी कहा कि फ्रांस चीन के साथ मिलकर बहुपक्षीय संचार और सहयोग को मजबूत करना चाहता है, जलवायु परिवर्तन, खाद्य संकट और जैव विविधता संरक्षण जैसे वैश्विक मुद्दों का संयुक्त रूप से मुकाबला करना चाहता है। फ्रांस यूरोप-चीन वार्तालाप व सहयोग को सक्रिय रूप से बढ़ावा भी देना चाहता है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)