Akshay Kumar आने वाली बायोपिक में माइनिंग इंजीनियर Jaswant Singh Gill का निभाएंगे किरदार

Spread the News

मुंबई: एक के बाद एक फिल्मों की शूटिंग और घोषणा करने के अपने अभ्यास को जारी रखते हुए, बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार, जिन्हें हाल ही में ‘राम सेतु’ में देखा गया था, इस बार एक और बायोपिक फिल्म की सुर्खियां बटोरने के लिए तैयार हैं।यह बायोपिक ‘माइनिंग इंजीनियर जसवंत सिंह गिल’ की है, जिन्होंने बेहद कठिन परिस्थितियों में 1989 में पश्चिम बंगाल के रानीगंज में बाढ़ वाली कोयले की खदान में फंसे खनिकों को बचाया था।

22 नवंबर, 1939 को अमृतसर में पैदा हुए गिल खालसा कॉलेज के पूर्व छात्र थे, और 1991 में राष्ट्रपति रामास्वामी वेंकटरमन द्वारा सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया गया।रानीगंज कोयला खदान, भारत की पहली कोयला खदान, ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के जॉन सुमनेर और सुएटोनियस ग्रांट हीटली द्वारा खनन गतिविधियों के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के बाद 1774 में खोली गई थी। खदान का राष्ट्रीयकरण 1974 में किया गया था और इसे भारतीय कोयला खान प्राधिकरण द्वारा अधिग्रहित किया गया था।

भारत की पहली कोयला खदान बचाव फिल्म बताई जाने वाली इस फिल्म में अक्षय कुमार मुख्य भूमिका निभाएंगे। फिल्म का निर्देशन टीनू सुरेश देसाई करेंगे, जो इससे पहले राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म ‘रुस्तम’ में अक्षय कुमार के साथ काम कर चुके हैं।केंद्रीय कोयला और खान मंत्री प्रल्हाद जोशी ने बुधवार को ट्विटर पर गिल को याद करते हुए लिखा, ‘‘स्वर्गीय सरदार जसवंत सिंह गिल जी को 1989 में बाढ़ में डूबी कोयला खदान से 65 श्रमिकों को बचाने में उनकी वीरतापूर्ण भूमिका के लिए याद किया जा रहा है। हमें अपने योद्धाओं पर गर्व है। जो भारत की ऊर्जा सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए हर रोज बाधाओं से लड़ते हैं।’’

केंद्रीय मंत्री को जवाब देते हुए अक्षय कुमार ने ट्वीट किया, ‘‘33 साल पहले आज ही के दिन •ाारत के पहले कोयला खदान बचाव अभियान को याद करने के लिए जोशी प्रल्हाद जी, आपका आभारी हूं। यह ऐसी कहानी है जैसी कोई और नहीं।’’ पूजा एंटरटेनमेंट द्वारा निर्मित, शीर्षक रहित एज-ऑफ -द-सीट रेस्क्यू ड्रामा 2023 में रिलीज होने वाली है।