भारत का पहला निजी रॉकेट ‘VIKRAM-S’ के लिए उल्टी गिनती शुरू, कल भरेगा उड़ान, अंतरिक्ष नियामक ने दी मंजूरी

Spread the News

नई दिल्ली: देश का पहला निजी रॉकेट विक्रम-एस उड़ान भरने के लिए पूरी तरह से तैयार है। आज से इसकी उल्टी गिनती शुरू हो गई है। जानकारी के अनुसार यह कल यानि 18 नवंबर को उड़ाग भरेगा। आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से इसकी लॉन्चिंग की जाएगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने इस संबंधी जानकारी देते हुए कहा कि भारत का पहला निजी रॉकेट विक्रम-एस शुक्रवार सुबह 11.30 बजे अंतरिक्ष स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस की ओर से विकसित रॉकेट को लॉन्च करने के लिए तैयार है। हालांकि पहले रॉकेट की लॉन्चिंग 15 नवंबर को होनी थी लेकिन खराब मौसम के कारण इसे 18 नवंबर तक पुनर्निर्धारित किया गया ।

बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के संस्थापक और प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई को श्रद्धांजलि देने के रूप में स्काईरूट के लॉन्च व्हीकल का नाम ‘विक्रम’ रखा गया है। स्काईरूट पहला ऐसा स्टार्टअप है जिसने अपने रॉकेट लॉन्च करने के लिए इसरो के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। इसका उद्देश्य अंतरिक्ष-उड़ान में प्रवेश बाधाओं को दूर करना और किफायती, विश्वसनीय और नियमित अंतरिक्ष उड़ान के अपने मिशन को आगे बढ़ाना है।

वहीं, स्काईरूट ने एक ट्वीट में कहा कि यह रहा! श्रीहरिकोटा के रॉकेट एकीकरण सुविधा में हमारे विक्रम-एस की एक झलक देखें, क्योंकि यह महत्वपूर्ण दिन के लिए तैयार हो रहा है। मौसम 18 नवंबर को पूर्वाह्न 11:30 को प्रक्षेपण करने के लिए बहुत अच्छा लगता है।

सिंगल-स्टेज सब-ऑर्बिटल लांच व्हीकल है विक्रम-एस

बताया जा रहा है कि विक्रम-एस एक सिंगल-स्टेज सब-ऑर्बिटल लांच व्हीकल है, जो तीन ग्राहक पेलोड ले जाएगा और अंतरिक्ष प्रक्षेपण वाहनों की विक्रम श्रृंखला में अधिकांश तकनीकों का परीक्षण और सत्यापन करने में मदद करेगा।