हरियाणा में 600 से अधिक योजनाओं और सेवाओं को पीपीपी से जोड़ा: संजीव कौशल

Spread the News

चंडीगढ़: हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम) रोहतक के 14वें स्थापना दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने छात्रों के साथ सीधा संवाद करते हुए बताया कि हरियाणा सरकार ने एक बड़ा कदम उठाते हुए परिवार को एक इकाई मानकर परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) बनाया है। जिसमें प्रत्येक सदस्य की जानकारी दर्ज है। लग•ाग 600 से अधिक योजनाओं व सेवाओं को इससे जोड़ा जा चुका है।

छात्रों के प्रश्नों का जवाब देते हुए कौशल ने कहा कि पीपीपी बनने से अब नागरिकों को जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र और राशन कार्ड बनवाने का केवल एक क्लिक के माध्यम से ऑनलाइन हो रहा है। इतना ही नहीं सभी सरकारी योजनाओं व सेवाओं का लाभ भी पात्र लाभार्थियों को बड़ी सरलता से मिल रहा है। शासन, न्यायिक और प्रशासनिक प्रणाली में प्रबंधन की भूमिका का अहम महत्व कौशल ने छात्रों को शासन, न्यायिक प्रणाली और प्रशासनिक प्रणाली में प्रबंधन की भूमिका के महत्व को समझाते हुए कहा कि आईएएस अधिकारियों, अखिल भारतीय सेवा और हरियाणा सिविल सर्विस अधिकारियों को भी सेवा में आने से पूर्व सर्वप्रथम प्रबंधन के गुण सिखाए जाते हैं ताकि वे प्रशासनिक व्यवस्था का विवेकपूर्ण संचालन कर सकें। राज्य में हरियाणा लोक प्रशासन संस्थान के माध्यम से अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाता है।

उन्होंने सरकार द्वारा शुरू की गई नई पहल मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी (सीएमजीजीए) के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यह एक अनूठा कार्यक्रम है। जिसके माध्यम से युवाओं को राज-काज के संबंध में करीब से जानने का मौका मिलता है। इतना ही नहीं सरकारी योजनाओं व उन्हें जमीनी स्तर पर लागू करने के लिए युवाओं के सुझाव और प्रबंधन के गुणों व अनुभवों को शामिल किया जाता है। इसी तरह केंद्र सरकार, राज्य सरकारों में भी विभिन्न कार्यों व नीति निर्माण के लिए भी निजी कंसलटेंट की सेवाएं ली जाती हैं। उन्होंने छात्रों का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि भविष्य में जब वे पेशेवर तौर पर आगे बढ़ेंगे तो सेवा का भाव अवश्य होना चाहिए। आज के दौर में ब्रिटिश उपनिवेशवादी शासन की सोच बदलने की आवश्यकता है। इस अवसर पर आईआईएम रोहतक के निदेशक प्रो. धीरज शर्मा सहित अन्य फैकल्टी मेंबर व छात्र उपस्थित रहे।