हरियाणा स्वास्थ्य विभाग में नए पद स्वीकृत करवाने को लेकर सुपरवाइजर संघ ने चलाया आंदोलन

Spread the News

चंडीगढ़: हरियाणा में बढ़ते डेंगू मामलों के बीच स्वास्थ्य महानिदेशालय की योजना शाखा द्वारा स्वास्थ्य कर्मचारियों के पदों को एचआरएमएस पोर्टल से हटाने व कार्यरत कर्मचारियों के वेतन रोकने से प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मचारियों में भारी रोष है। स्वास्थ्य सुपरवाइजर संघ हरियाणा ने पदों को एचआरएमएस पोर्टल से हटाने की बजाए राज्य के शहरी क्षेत्रों में आबादी के आधार पर सरकार के नोरम अनुसार पद स्वीकृत करवाने और पूर्व में स्वीकृत पदों को बरकरार रखने को लेकर एक बार पुन मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर हस्तक्षेप की मांग की है। पत्र की प्रति स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों को भी भेजी गई है।

स्वास्थ्य सुपरवाइजर संघ के प्रदेशाध्यक्ष राममेहर वर्मा, महासचिव सतपाल खासा, उपप्रधान सुमित्रा देवी ने बताया कि पूर्व में स्वीकृत पदों को बरकरार रखने की बजाए पदों को एचआरएमएस पोर्टल से हटाने और जनता को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए आबादी के नोरम अनुसार नए पद स्वीकृत करवाने की मांग को लेकर नगर पार्षदों व नवनिर्वाचित पचायतों से प्रस्ताव पारित करवाकर जनआंदोलन आरंभ किया है। जिसकी शुरुआत जींद नगर परिषद व नरवाना नगर पार्षदों द्वारा की जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के बढ़ते केसों के बीच जनता को राम भरोसे छोड़ा एक तरफ तो राज्य में डेंगू के 6500 से ज्यादा मामले सामने आने और 14 लोगों की मौत होने के कारण स्वास्थ्य अमले में बढ़ोतरी की आवश्यकता होनी चाहिए। वहीं दूसरी तरफ पहले से स्वीकृत पदों को पोर्टल से हटाने से आम जनता विशेषकर शहरी क्षेत्र की जनता को राम भरोसे छोड़ा जा रहा है।

कोरोना के बीच स्वास्थ्य विभाग की योजना शाखा द्वारा राज्य के सभी 22 जिला स्तरीय शहरों में पहले से स्वीकृत महिला एवं पुरुष एमपीएचडब्ल्यू और महिला एवं पुरुष स्वास्थ्य सुपरवाइजर के पदों सहित 700 से ज्यादा पदों को समाप्त करके 18 लाख से ज्यादा आबादी वाले फरीदाबाद व गुरुग्राम जैसे बड़े शहरों और एक लाख से कम आबादी वाले चरखी दादरी व झज्जर जैसे छोटे शहरों में केवल एक स्वास्थ्य सुपरवाइजर और मात्र 6 एमपीएचडब्ल्यू के पद रखने के अलावा उपमंडल स्तर के शहरों में स्वीकृत पदों को बिल्कुल समाप्त करने का तुगलकी आदेश जारी किया हुआ है। विभाग की योजना शाखा के उक्त निर्णय के विरोध मे हजारों स्वास्थ्य कर्मचारियो ने आंदोलन करने का ऐलान करते हुए 22 अगस्त को स्वास्थ्य विभाग की महानिदेशक के पंचकूला कार्यालय के सम्मुख रोष किया था। जिसके बाद विभाग की तत्कालीन महानिदेशक की अध्यक्षता में गठित निदेशक स्तर के अधिकारियों की कमेटी व स्वास्थ्य सुपरवाइजर संघ के बीच लिखित समझौता हुआ।