हरियाणा में 47 परियोजनाओं पर खर्च होंगे 43 हजार करोड़ रुपये: संजीव कौशल

Spread the News

चंडीगढ़: हरियाणा में बनने वाले पहले इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर के वाणिज्यिक उपयोग को सुनिश्चित करने के लिए मुख्य सचिव संजीव कौशल ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सेंटर में बनाई जाने वाली सुविधाओं से संबंधित सभी हितधारकों के साथ बैठक की जाए और उनसे सुझाव लेकर व्यवस्थित तरीके से डिजाइन तैयार किया जाए। इसके अलावा ऐसी बड़ी परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के लिए प्रत्येक प्रोजेक्ट के लिए सब कमेटी बनाई जाए। इसमें उस परियोजना से संबंधित अन्य विभागों के प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जाए। मुख्य सचिव 100 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं की समीक्षा के लिए प्रशासनिक सचिवों की समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

बैठक में 06 विभागों की 100 करोड़ से अधिक की 47 परियोजनाओं पर चर्चा की गई। इन 47 परियोजनाओं पर लगभग 43 हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी। कौशल ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि अन्य स्थानों पर बने इस प्रकार के इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (आईसीसी) का भी बारिकी से अध्ययन किया जाए। उनकी व्यवहार्यता का भी मूल्यांकन किया जाए। फरीदाबाद के सेक्टर-78 में आईसीसी बनाया जाना है। इसके निर्माण में तेजी लाने के लिए अगले 15 दिन में हितधरकों के साथ बैठक का आयोजन किया जाए। ग्लोबल सिटी प्रोजेक्ट ने पकड़ी रμतार :बैठक में बताया गया कि गुरुग्राम में करीब एक हजार एकड़ जमीन पर विकसित की जाने वाली ग्लोबल सिटी के पहले चरण के लिए टेंडर किया गया है। इस सिटी में ग्लोबल सिटी दुबई और सिंगापुर की तरह सभी अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। इसके बनने से न केवल उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा बल्कि युवाओं को भी बेहतर रोजगार मिल सकेगा।

यह सिटी इंटरनेशनल लेवल पर अपनी पहचान बनाएगी। बैठक में कृषि और पशुपालन विभाग की परियोजनाओं की समीक्षा की गई। बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव और वित्त आयुक्त वीएस कुंडू, फरीदाबाद महानगरीय विकास प्राधिकरण, फरीदाबाद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुधीर राजपाल, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अनुराग रस्तोगी, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आनंद मोहन शरण, शहरी स्थागनीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अरूण कुमार गुप्ता, निगरानी एवं समन्वय विभाग के प्रधान सचिव डी सुरेश और हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसंरचना विकास निगम के प्रबंध निदेशक विकास गुप्ता सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।