Hamirpur Medical College को मिलेगी नई छत, सीलन और पानी टपकने से जल्द मिलेगी निजात, खर्च होंगे डेढ़ करोड़

Spread the News

हमीरपुर : जिला मुख्यालय के डा. राधा कृष्णन मेडिकल कॉलेज अस्पताल के पुराने भवन को बारिश में सीलन और पानी के टपकने से निजात मिल जाएगी। इस पर नई टीन डालकर कवर करने का काम इसी सप्ताह शुरू हो जाएगा। पिछले दो साल से नई छत डालने की मुहिम जारी थी, लेकिन प्रोसेस लंबा हो गया। भवन को सीलन से काफी नुकसान पहुंच चुका है। अब नई छत डालकर भवन को बेहतर तरीके से सुरिक्षत रखा जा सकेगा, ताकि इसकी बेवजह की मरम्मत और भीतरी व्यवस्था पर बार-बार मुश्किलें पैदा न हों। कुल मिलाकर पुरानी टीन की छत को उखाड़ कर नई टीन की छत पर डेढ़ करोड़ खर्च हो रहा है। पुराना भवन मेडिकल कॉलेज के पास ही रहेगा। भले ही उसकी नए कॉम्पलेक्स जोल सप्पड़ में स्थानांतरित हो जाए। मेडिकल कॉलेज का कुछ हिस्सा अभी यहीं पर ही रहेगा।

अगले कुछ सालों में पुराने जोनल अस्पताल के इस भवन को मेडिकल कॉलेज प्रशासन अपने हिसाब से ही इस्तेमाल करेगा। टेंडर अवार्ड हो गया है और अब संबंधित ठेकेदार ने मोर्चा भी संभाल लिया है। 2 चरणों में होने वाले इस काम में तकरीबन 8 माह का समय लग सकता है, क्योंकि यह काम 2 अलग-अलग चरणों में पूरा होगा। कॉलेज के भवन के 2 पार्ट हैं। पहले पार्ट का काम शुरू होने वाला है। इससे पहले कुछ शिफ्टिंग का काम किया जा रहा है। स्टाफ नर्सेज और अन्य कर्मचारियों के टॉप फ्लोर पर ऑफिस हैं। उन्हें दूसरी जगह तब्दील किया जा रहा है। कुछ को अस्थायी तौर पर आयुर्वेदिक भवन के कॉम्पलेक्स में उस जगह पर ले जाया जा रहा है, जहां पर पहले कोविड सेंटर बनाया गया था।

फिलहाल आयुर्वेदिक विभाग का वह भवन संबंधित विभाग को हैंड ओवर नहीं हुई है। इसलिए अभी उस पर कॉलेज स्टाफ का कब्जा रहेगा। नई छत डालने के इस काम के साथ ही भवन में फायर सिस्टम का आधुनिक ढांचा भी इंस्टॉल होगा। हालांकि अभी इसकी व्यवस्था हुई तो है, लेकिन वह पुराने ढंग की है। इसलिए नया एस्टीमेट भी तैयार हो चुका है। हालांकि अभी पैसा मेडिकल कॉलेज को ट्रांसफर नहीं हुआ है, लेकिन अप्रूवल मिल चुकी है। मेडिकल कॉलेज प्रशासन इसे ज्यादा तवज्जो इसलिए दे रहा है, क्योंकि सुरक्षित कारणों से यह अति जरूरी है।