हिमाचल भी घूमने गए थे आफताब और श्रद्धा, अब सबूत जुटाने मणिकर्ण पहुंची दिल्ली की टीम

Spread the News

नई दिल्ली/मुंबई: दिल्ली पुलिस ने श्रद्धा वालकर हत्याकांड में सबूतों की तलाश के लिए कई टीमों को मुंबई, गुड़गांव, हिमाचल प्रदेश भेज दिया है। मिली जानकारी के मुताबिक श्रद्धा और आफताब मणीकर्ण भी घूमने गए थे ऐसे में अब सबूत जुटाने पुलिस की टीमें वहां भी पहुंच गई हैं। पुलिस की आशंका है कि आने वाले दिनों में इस केस में कई नए खुलासे हो सकते हैं।

श्रद्धा के साथ मारपीट करने की भी बात आई सामने

वहीं, 2 साल से दोस्तों और सहकर्मियों के साथ पीड़िता की बातचीत से संकेत मिला है कि उसे एक बार इतनी बुरी तरह पीटा गया था कि वह बिस्तर से नहीं उठ सकी थी। इस बीच दिल्ली की एक अदालत ने नगर पुलिस को निर्देश दिया है कि महरौली हत्याकांड के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला का नार्को टैस्ट 5 दिन के अंदर पूरा कराया जाए। अदालत ने यह भी स्पष्ट किया कि पूनावाला के विरुद्ध किसी ‘थर्ड डिग्री’ उपाय का प्रयोग नहीं किया जाए।

लगातार बयान बदल रहा आफताब

उधर पुलिस ने कहा कि पूनावाला लगातार अपने बयान बदल रहा था, जिसके बाद अदालत ने वीरवार को ‘ट्रूथ सीरम टैस्ट’ कराने की मंजूरी दे दी थी। डेटिंग एप्प ‘बंबल’ जिस पर पूनावाला और वालकर की मुलाकात हुई थी, ने एक बयान जारी कर इस घटना को ‘अक्षम्य अपराध’ बताया और पीड़िता के परिवार और प्रियजनों के साथ सहानुभूति व्यक्त की। जब पीड़िता पूनावाला के साथ मुंबई के पास उनके गृहनगर वसई में रहती थी, तब व्हाट्सएप चैट से उसके साथ हुए दुर्व्यवहार के बारे में पता चला है। इसी तरह, वालकर की चोट के निशान वाली 2020 से पहले की तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर सामने आई।

जांच से जुड़े जांचकर्त्ताओं ने बताया कि पूनावाला के फोन को फोरैंसिंक जांच के लिए भेजा जाएगा ताकि उन लोगों की पहचान की जा सके जो वालकर की हत्या के बाद उसके संपर्क में थे और उस डाटा को भी फिर से हासिल किया जा सके जिसे ‘डिलीट’ कर दिया गया था। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने अब तक कुछ हड्डियां बरामद की हैं।