शी चिनफिंग ने एपेक के सदस्यों के नेताओं की 29वीं अनौपचारिक बैठक में भाग लेकर महत्वपूर्ण भाषण दिया

Spread the News

18 नवंबर की सुबह एशिया-प्रशांत क्षेत्र आर्थिक सहयोग संगठन(एपेक) के सदस्यों की 29वीं अनौपचारिक बैठक थाईलैंड की राजधानी बैंकाक के राजकीय सभागार केंद्र में उद्घाटित हुई ।चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इसमें भाग लेकर एक महत्वपूर्ण भाषण दिया ,जिसका शीर्षक था एकतापूर्ण सहयोग करने और साहस से जिम्मेदारी उठाने से एशिया-प्रशांत के साझे भविष्य वाले समुदाय का निर्माण ।

उन्होंने कहा कि अब विश्व फिर ऐतिहासिक चौराहे पर आ चुका है ।एशिया-प्रशांत क्षेत्र का स्थान और भूमिका अधिक महत्वपूर्ण हो गयी है ।नयी परिस्थिति में हमें हाथ में हाथ मिलाकर एशिया-प्रशांत के साझे भविष्य वाले समुदाय का निर्माण करना और एशिया-प्रशांत सहयोग का नया शानदार अध्याय जोड़ना चाहिए । उन्होंने चार सूत्रीय सुझाव पेश किये ।पहला ,अंतरराष्ट्रीय निष्पक्षता औऱ न्याय की सुरक्षा कर शांतिपूर्ण तथा स्थिर एशिया का निर्माण किया जाय ।पिछले कई दशकों में एशिया प्रशांत में तेज आर्थिक वृद्धि का एक मुख्य कारण पारस्परिक सम्मान और एकतापूर्ण सहयोग । दूसरा ,खुलेपन और समावेश पर कायम रहकर समान समृद्धि वाले एशिया-प्रशांत का निर्माण किया जाय ।हमें खुले क्षेत्रवाद का पालन कर समग्र आर्थिक नीतियों का समन्वय मजबूत कर अधिक घनिष्ठ क्षेत्रीय व्यावसायिक चेन और सप्लाई चेन की स्थापना करनी चाहिए ।अगले साल चीन तीसरे बेल्ट एंड रोड अंतरराष्ट्रीय सहयोग शिखर सम्मेलन के आयोजन पर विचार कर रहा है, ताकि एशिया-प्रशांत व पूरे विश्व के विकास में नयी शक्ति डाली जा सके ।

तीसरा ,हरित और कम कार्बन वाले विकास पर कायम रहकर स्वच्छ और सुंदर एशिया-प्रशांत का निर्माण किया जाय। चौथा ,हमे साझे भविष्य वाले और एक-दूसरे को मदद देने वाले एशिया-प्रशांत का निर्माण करना चाहिए । शी ने बल दिया कि चीन सभी देशों के साथ पारस्परिक सम्मान ,समानता और लाभ के आधार पर शांतिपूर्ण सहअस्तित्व करने और समान विकास करने को तैयार है ।चीनी अपने स्टाइल के आधुनिकीकरण पर कायम रहकर अधिक ऊंची और खुली अर्थव्यवस्था का निर्माण करेगा ।  थाईलैंड के प्रधानमंत्री  प्रायुत चान-ओचा ने इस बैठक की अध्यक्षता की । 17 नवंबर की रात शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने इस बैठक के स्वागत रात्रि भोज में भाग लिया ।(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)