चीन में यी जाति का लोक पर्व होता है बेहद खास

Spread the News

चीन में यी जाति का नववर्ष एक लोक उत्सव होता है जिसमें कई लोक रीति-रिवाज में शामिल होते हैं। जैसे कि पूर्वजों का बलिदान, मनोरंजन और प्रतियोगिताएं, खानपान और मनोरंजन, और वस्त्र प्रणाली। चीन के सछ्वान, युन्नान, क्वेइचो और क्वांगशी च्वांग स्वायत्त प्रदेश आदि में रहने वाले यी जाति के लोगों के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण पारंपरिक उत्सव होता है। साथ ही यह उत्सव रिश्तेदारों और दोस्तों से मिलने, परिवार के पुनर्मिलन का भी समय होता है। आमतौर पर यह त्यौहार हर साल नवंबर के मध्य में मनाया जाता है।

23 मई 2011 को चीनी राज्य परिषद ने राष्ट्रीय अमूर्त सांस्कृतिक विरासत सूची के तीसरे बैच में शामिल होने के लिए यी जाति के नववर्ष को मंजूरी दी। यी लोग नए साल को “कूशी” कहते हैं। “कू” का अर्थ होता है वर्ष; “शी” का अर्थ है “नया”;”कूशी” का अर्थ है नववर्ष मनाना। यी जाति के लोगों के पारंपरिक लोक उत्सवों में “कूशी” सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। नए साल से एक महीने पहले इसकी तैयारी की जा रही है।

यी लोगों के वर्ष की उत्पत्ति के बारे में कई किंवदंतियां हैं, इनमें से एक व्यापक रूप से प्रचलित है। बहुत समय पहले, ओबूकेसन नाम का यी जाति का एक युवक था, जो अपनी मां का सम्मान करता था, लेकिन उसकी मां, किसी कारण से, हमेशा उदास रहती थी। उसने अपनी मां को खुश करने के लिए कई तरह के उपाय सोचे। एक साल के शरद ऋतु की फसल के बाद, ओबुकोसन ने पूर्वजों की पूजा करने के लिए भोज का आयोजन किया और पड़ोसियों, रिश्तेदारों और दोस्तों को आने और इकट्ठा होने के लिए आमंत्रित किया। सभी लोग बर्तन के पास बातें कर रहे थे और हंस रहे थे, जिससे अंततः उदास मां मुस्कुरा उठी।

इस अविस्मरणीय दिन को मनाने के लिए, हर साल शरद ऋतु की फसल के बाद, वह उसी कार्यक्रम का आयोजन करता है। यी जाति का नववर्ष पीढ़ी दर पीढ़ी इस तरह आगे बढ़ा, और यह यी लोगों के लिए अपने पूर्वजों को याद करने के लिए एक महत्वपूर्ण पारंपरिक त्योहार बन गया है। यी जाति का नववर्ष यी लोगों की प्राचीन सभ्यता और पूर्वजों की पूजा का एक जीवंत प्रमाण है, और यह यी लोगों की अपने पूर्वजों के प्रति प्रशंसा को प्रदर्शित करता है। त्योहार में अच्छी फसल, समृद्धि, शांति, आनंद और शांति की विचारधारा पूरी तरह से परिलक्षित होती है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)