भुवनेश्वर की कशमकश में उलझा भारत, कप्तान पांड्या के साथ सूर्यकुमार और सैमसन निभा सकते हैं फिनिशर की भूमिका

Spread the News

माउंट मोनगानुई: युवा भारतीय टीम को रविवार दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में न्यूजीलैंड से कड़ी चुनौती का सामना करने की उम्मीद है जिसमें कप्तान हार्दिक पंड्या की निगाहें कुछ ‘गेम टाइम’ हासिल करने पर लगी होंगी, पर भुवनेश्वर कुमार के सामने भी इस छोटे प्रारूप में बने रहने की कठिन चुनौती होगी। वेलिंगटन में शृंखला का शुरूआती मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था और भारतीय खिलाड़ी मैदान पर उतरने के लिए बेताब होंगे। यह मैदान जिस जगह स्थित है, उसे ‘बे ऑफ प्लेंटी’ कहा जाता है और जहां तक टी20 प्रारूप में रवैये का संबंध है तो भारतीय क्रिकेट में इस समय सोच विचारने के लिए काफी कुछ है।

इस दौरे पर भारतीय टीम प्रबंधन को 33 वर्षीय भुवनेश्वर कुमार की मौजूदगी को लेकर चल रही दुविधा से निपटना पड़ सकता है। कुछ अनसुलझे सवाल हैं जिनका जितना जल्दी जवाब मिल जाए, भारतीय क्रिकेट के लिए उतना ही बेहतर होगा। एक सवाल उठता है कि क्या सबसे सीनियर तेज गेंदबाज के तौर पर खिलाना युवाओं से मौका छीनने जैसा नहीं होगा। ऋषभ पंत को टी-20 शृंखला के लिए टीम का उप कप्तान नियुक्त किया गया तो कहा कि वह पारी का आगाज करेंगे लेकिन शुभमन गिल इस प्रारूप में अपने आत्मविश्वास से या फिर विशेषज्ञ ईशान किशन उनके साथ जोड़ी बनाएंगे, यह देखना होगा।

संजू सैमसन और कप्तान पंड्या, सूर्यकुमार यादव के साथ 2 बल्लेबाज हैं जो तेजी से रन जुटाने और ‘फिनिशर’ की भूमिका भी निभाएंगे। ग्लेन फिलिप्स टी20 के सबसे रोमांचक बल्लेबाजों में से एक हैं और जब युजवेंद्र चहल को काफी समय बाद पहला मैच मिलेगा तो दोनों के बीच मुकाबला देखने लायक होगा। रविचंद्रन अश्विन का टी20 कैरियर लगभग समाप्त हो गया है तो वाशिंगटन सुंदर को विशेषज्ञ आॅफ स्पिनर के तौर पर लंबे समय तक खेलने का मौका मिलेगा जबकि हर्षल पटेल को भी लय में वापसी के लिए समय मिलेगा। अर्शदीप सिंह का बाएं हाथ के तेज गेंदबाज के रूप में अगले दो मैचों में खेलना निश्चित है।

उमरान मलिक को तैयार करने की आवश्यकता

अगर भुवी खेलते हैं तो टीम प्रबंधन उमरान मलिक और मोहम्मद सिराज की जोड़ी को परखने का मौका चूक जाएगा कि वे फिन एलेन, ग्लेन फिलिप्स और डेवोन कॉन्वे जैसे मजबूत खिलाड़ियों के खिलाफ दबाव भरी परिस्थितियों में कैसा खेलते हैं। भारत के सबसे तेज गेंदबाज उमरान को तैयार करने की आवश्यकता है। पाकिस्तान ने हारिस राऊफ, शाहीन शाह अफरीदी और नसीम शाह के साथ दिखा दिया है कि अत्याधिक तेज गति क्या कर सकती है।