पाकिस्तान सरकार ने पहली बार Imran Khan की पार्टी PTI से किया संपर्क, बातचीत की प्रक्रिया शुरू

Spread the News

इस्लामाबादः इस साल अप्रैल में सत्ता में आने के बाद पहली बार शहबाज शरीफ के नेतृत्व वाली सरकार ने इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के साथ बातचीत शुरू की है। सूत्रों ने यह जानकारी दी हैं। रिपोर्ट के अनुसार, वित्त मंत्री इशाक डार ने शुक्रवार को राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से मुलाकात की और राजनीतिक मुद्दों को हल करने के लिए बातचीत की पेशकश की हैं। सूत्रों ने कहा कि राष्ट्रपति ने उनसे कहा कि उनका संदेश पीटीआई नेतृत्व तक पहुंचा दिया जाएगा।

सूत्रों ने कहा कि सरकार की पेशकश के जवाब में, पीटीआई नेतृत्व ने भी इच्छा दिखाई और राष्ट्रपति को सरकार के साथ जुड़ने के लिए अधिकृत किया। डार ने पिछले तीन दिनों में राष्ट्रपति के साथ दो बैठकें कीं। पीटीआई जल्द आम चुनाव की तारीख की घोषणा चाहती है। अगर सरकार सहमत है, तो पीटीआई चुनावी ढांचे पर बातचीत के लिए संसद में फिर से शामिल होने को तैयार है। रिपोर्ट के अनुसार, यह भी बताया गया है कि डार और अल्वी के बीच बैठक का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि नए सेना प्रमुख की नियुक्ति की प्रक्रिया सुचारू रूप से संपन्न हो।

कानून के तहत, राष्ट्रपति 25 दिनों के लिए भेजे गए सेना प्रमुख की नियुक्ति के संबंध में प्रस्ताव को रोक सकते हैं। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि सेना प्रमुख की नियुक्ति एक बहुत ही संवेदनशील मामला है और इस प्रक्रिया में देरी करना राष्ट्रीय हित में नहीं होगा। पीटीआई के एक नेता ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून को बताया कि अगर सरकार तय हुई प्रक्रिया का उल्लंघन कर सेना प्रमुख की नियुक्ति करती है तो राष्ट्रपति पुनर्विचार के लिए प्रस्ताव रख सकते हैं।

हालांकि, उन्होंने कहा कि पार्टी सेना प्रमुख के रूप में किसी जनरल की नियुक्ति पर विवाद नहीं करेगी। उन्होंने कहा, अब नए प्रमुख की नियुक्ति पीटीआई का मुद्दा नहीं है। उन्होंने टिप्पणी की, कि नए प्रमुख की नियुक्ति के संबंध में नागरिक और सैन्य नेतृत्व एक समान नहीं हैं। सेना प्रमुख (सीओएएस) की नियुक्ति के बारे में प्रस्ताव अभी तक रक्षा मंत्रलय द्वारा शुरू नहीं किया गया है।

एक सूत्र ने दावा किया कि प्रस्ताव पर प्रक्रिया अगले 36 घंटों में कभी भी शुरू की जा सकती है, लेकिन अगर इसमें देरी होती है तो सरकार संघीय कैबिनेट के जरिए नए सेना प्रमुख की नियुक्ति को मंजूरी दे सकती है। हालांकि, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के एक नेता ने मामले पर नागरिक और सैन्य नेतृत्व के बीच मतभेदों के बारे में रिपोर्ट को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि निर्णय पहले ही लिया जा चुका है और घोषणा अगले सप्ताह की जाएगी।