जलवायु परिवर्तन के कारण भारत में बढ़ सकती है बाढ़ जैसी मौसमी घटनाएं

Spread the News

नई दिल्ली: जलवायु परिवर्तन के कारण भविष्य में भारत में बाढ़ और ‘लू’ जैसी मौसमी घटनाएं कई गुना बढ़ने वाली हैं। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आई.आई.टी.), गांधीनगर के शोधकत्र्ताओं के एक अध्ययन में यह अनुमान जताया गया है। अध्ययन में भारत के क्रमिक असमान्य मौसमी घटनाओं के जोखिम का पता लगाने के लिए 1951 से 2020 तक की अवधि का अध्ययन किया, जिसमें इस क्षेत्र में गर्मियों में ‘लू’ और गर्मियों के बाद मानसून के दौरान अत्यधिक वर्षा पर ध्यान केंद्रित किया गया। शोधकत्र्ताओं ने कहा कि इस तरह की मौसमी घटनाओं से भारत में कृषि उत्पादन, सार्वजनिक स्वास्थ्य और बुनियादी ढांचा व्यापक स्तर पर प्रभावित हुआ। यह अध्ययन ‘वन अर्थजर्नल’ में प्रकाशित हुआ है। गुजरात स्थित आई.आई.टी.-गांधीनगर में सिविल अभियांत्रिकी एवं पृथ्वी विज्ञान विभाग के प्रो. विमल मिश्र ने कहा, जलवायु परिवर्तन के कारण भविष्य में क्रमिक असमान्य मौसमी घटनाओं की बारम्बरता कई गुना बढ़ने का अनुमान है।