ब्लैक एंडव्हाइटमॉनिटर से 8K अल्ट्रा-हाई-डेफिनिशन बड़ी स्क्रीन तक, हमने टीवीमें क्या देखा है?

Spread the News

हर साल 21 नवंबर को विश्व टेलीविजन दिवस होता है। इस दिवस की शुरुआत 51वीं संयुक्तराष्ट्र महासभाद्वारावर्ष 1996 में की गयी। 1925में, ब्रिटिश नागरिकजॉनरोजरबेयर्ड ने सफलतापूर्वक दुनिया का पहला टेलीविजन विकसित किया। अगर चीन की बात करें तो 1950 के दशक तकचीन में टेलीविजन बहुत दुर्लभ था। 1958 में, चीनी तकनीशियनों के एक दल ने सोवियत संघ में निर्मित एक टीवीप्रोटोटाइप को शोध के बादचीन के पहले ब्लैक एंडव्हाइटटीवी को सफलता सेअसेंबल किया,इसे “पेइचिंग ब्रांड” नाम दिया गया।लेकिनइससे पहले, यहां लोगों ने कभी टीवी नहीं देखा था और उनके पास कोई प्रासंगिक सैद्धांतिक ज्ञान भी नहीं था।

1978 में,चीन के सुधार और खुलेपन के बाद, अर्थव्यवस्था के निरंतर विकास के साथ, टीवी ने धीरे-धीरे हजारोंचीनी लोगों के घरों में प्रवेश किया।उस समय, रेफ्रिजरेटर, टीवी और वाशिंग मशीनतीनों वस्तुओं की उपलब्धता हर परिवार का “मानक उपकरण” था। ब्लैक एंडव्हाइट से रंगीन टीवीतक, भारी से पतले तक, चीनी लोगों के अद्भुत जीवन के साथ-साथटीवी भी पूरी तरह बदल चुका है। 2008 में,पेइचिंगओलंपिक खेलों का सफल आयोजन किया गया था। आंकड़ों के अनुसार, ओलंपिक खेलों के उद्घाटन के दिन, चीन में 1.1 अरब लोगों और दुनिया भर में 4.4 अरब लोगों ने इसे टीवी पर देखा, इस तरह मानव इतिहास में उच्चतम कार्यक्रम रेटिंग का रिकॉर्ड स्थापित हुआ। छोटे टीवीके जरिए लोगों नेचीन की भव्यता और चीनी राष्ट्र की एकता और आत्मविश्वास को देखा। आज के टीवी के साथ 4k और 8kअल्ट्रा-हाई-डेफिनिशन आम हो गए हैं। 2022पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक में, दर्शकों नेटीवी के माध्यम से एथलीटों के हर एक्शन को लाइव देखा।यहां तक कि अब नग्न आंखों वाली 3-डी तकनीक भी मौजूद है, जो समय और स्थान के बंधनों को तोड़ती है और लोगों को तल्लीन होने का अहसास कराती है।

टीवी महज एक मनोरंजन उपकरण से आज के स्मार्ट बड़े-स्क्रीनटर्मिनल में बदल गया है, जो कि लोगों के जीवन का अहम हिस्सा बना हुआ है।क्योंकि यहस्क्रीन हर युग के लघुचित्रों से भरी हुई है।

(साभार- चाइना मीडियाग्रुप, पेइचिंग)