Vigilance ने आरोपी सहायक इंजीनियर को किया गिरफ्तार, JE और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज

Spread the News

चंडीगढ़: पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने राज्य में भ्रष्टाचार के खि़लाफ़ अपनी मुहिम के दौरान सोमवार को बंगा एसबीएस नगर जिले के एक रिटायर्ड असिस्टेंट म्युनिसिपल इंजीनियर को स्टेडियम के घटिया निर्माण और सरकारी फ़ंड के गबन करने के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया है। अदालत ने आरोपी को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। विजिलेंस ने इस मामले में वांछित अन्य आरोपी ठेकेदार रकविंदर कुमार और जूनियर इंजीनियर (सेवानिवृत्त) विजय कुमार को गिरफ्तार करने के लिए टीमों का गठन किया है।

जानकारी देते हुए विजीलैंस के एक प्रवक्ता ने बताया कि शिकायतकर्ता मुनीष भारद्वाज निवासी शीतला मंदिर कॉलोनी, बंगा की शिकायत की जांच के दौरान विजीलैंस की तकनीकी टीम ने मिनी स्टेडियम बंगा की जांच की और नमूने लिये, जिनका निरीक्षण सिंचाई और अनुसंधान अमृतसर संस्थान से भी कराया गया था। उन्होंने बताया कि पड़ताल के दौरान यह भी सामने आया है कि इस स्टेडियम का टैंडर मंजूर करने के मौके पर नगर काऊंसिल बंगा के अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा सरकार की हिदायतों को भी अनदेखा करते हुए ठेकेदार रखविन्दर कुमार के साथ मिलीभुगत करके स्टेडियम के निर्माण का कार्य 87.45 लाख रुपए में दिया गया। इसके अलावा कई महत्वपूर्ण तकनीकी पहलुओं को अनदेखा करके मिनी स्टेडियम के निर्माण के लिए छप्पड़ वाली ज़मीन की क्षमता चैक किये बिना और पहले डिज़ाइन तैयार किये बिना ही कर दी गई, जिस कारण बुरी गुणवत्ता के कारण चारदीवारी कई स्थानों से समय से पहले ही खऱाब हो गई और स्टेडियम में बैठने के लिए बनाई गई सीढिय़ाँ भी खऱाब हो गईं। प्रवक्ता ने बताया कि उक्त ठेकेदार द्वारा किए गए कार्यों को चैक किए बिना ही कर्मचारियों द्वारा 39,74,304 रुपए की अदायगी भी ठेकेदार को कर दी गई, जबकि स्टेडियम के निर्माण का काम भी बंद पड़ा था, जिससे सरकारी पैसे और मशीनरी का नुकसान हुआ।

उक्त कोताहियों और लापरवाही को देखते हुए विजीलैंस ब्यूरो द्वारा रखविन्दर कुमार ठेकेदार, रणबीर सिंह सहायक म्यूनिसिपल इंजीनियर और विजय कुमार जेई नगर काऊंसिल बंगा के खि़लाफ़ मिलीभुगत करके सरकारी पैसे को नुकसान पहुँचाने और सरकारी पद का दुरुपयोग करने के दोष अधीन उक्त मुलजिमों के खि़लाफ़ थाना विजीलैंस ब्यूरो, जालंधर में पहले ही मुकदमा दर्ज है।