शर्म-अल-शेख में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन ने सकारात्मक संकेत भेजा : चीन

Spread the News

शर्म-अल-शेख में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (कोप-27) 20 नवंबर को संपन्न हुआ। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता माओ निंग ने 21 नवंबर को पेइचिंग में आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वर्तमान सम्मेलन में अपेक्षाकृत संतुलित सिलसिलेवार परिणाम हासिल हुए और बहुपक्षवाद का पालन करने और हाथ मिलाकर जलवायु परिवर्तन की चुनौती के निपटारे को मजबूत करने का सकारात्मक संकेत जारी हुआ।

माओ निंग ने बताया कि इस सम्मेलन के परिणामों में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन संघ और पेरिस समझौते के सिद्धांतों को प्रदर्शित किया गया और शमन व अनुकूलन जैसे पेरिस समझौते के कार्यान्वयन के अहम मुद्दों पर आगे की व्यवस्था की गयी। वह पेरिस समझौते के पूरी तरह से और प्रभावी ढंग से लागू होने के लिए मददगार है। साथ ही, हानि और क्षति कोष पर ढांचागत व्यवस्था भी की गय, हानि और क्षति कोष की स्थापना की गयी, जिसने विकासशील देशों की तत्काल मांगों का प्रभावी ढंग से जवाब दिया। साथ ही, विकसित देशों ने अभी भी हर साल विकासशील देशों को जलवायु वित्त के रूप में 1 खरब अमेरिकी डॉलर प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा नहीं किया। और वैश्विक अनुकूलन निधि को दोगुना करने का रोडमैप अभी भी स्पष्ट नहीं है, जो देशों के बीच आपसी विश्वास बनाने के लिए लाभदायक नहीं है। वैश्विक जलवायु शासन के लिए फिर भी लंबा रास्ता होगा।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)