हरियाणा को किसी भी कीमत पर चंडीगढ़ की जमीन पर अलग विधानसभा नहीं बनाने देंगे: परमिंदर ढींडसा

Spread the News

चंडीगढ़: हरियाणा विधानसभा के लिए चंडीगढ़ में अलग से जमीन आवंटित करने की हरियाणा सरकार की मांग का शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) ने कड़ा विरोध किया है। इस संबंध में पार्टी अध्यक्ष व पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखदेव सिंह ढींडसा के नेतृत्व में 26 नवंबर को पार्टी नेताओं की एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई गई है। जिसमें हरियाणा की इस नाजायज मांग के खिलाफ प्रस्ताव लाया जाएगा और पार्टी की अगली रणनीति बनाई जाएगी।

इस संबंध में पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और पंजाब के पूर्व वित्त मंत्री परमिंदर सिंह ढींडसा ने कहा कि हरियाणा को किसी भी कीमत पर चंडीगढ़ की जमीन पर अलग विधानसभा बनाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ पर पंजाब का पूरा अधिकार है, जिसे पंजाब के गांवों को खाली करके बसाया गया था और केंद्र की कांग्रेस सरकारें चंडीगढ़ को दो बार पंजाब को देने के अपने वादे से मुकर गई हैं। केंद्र में 70 साल तक शासन करने वाली कांग्रेस सरकार ने औपचारिक पत्र जारी कर ऐलान किया था कि समय आने पर हरियाणा की अपनी राजधानी होगी और चंडीगढ़ को पंजाब की राजधानी बनाया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं कर कांग्रेस सरकार ने पंजाब के साथ धोखा किया।