Congress मॉडल का मतलब है जातिवाद, वोटबैंक की राजनीति : PM Modi

Spread the News

मेहसाणाः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस की राजनीति के ‘मॉडल’ का अर्थ भाई-भतीजावाद, जातिवाद, संप्रदायवाद और वोट बैंक की राजनीति है, जिसने ना सिर्फ गुजरात बल्कि पूरे देश को बर्बाद कर दिया। उत्तर गुजरात के मेहसाणा में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कभी भी ‘पक्षपात और भेदभाव’ की नीति का समर्थन नहीं किया। उन्होंने कहा कि युवाओं द्वारा सत्तारूढ़ भाजपा में विश्वास जताना भी इसी बात को दर्शाता है। गुजरात में विधानसभा चुनाव के लिए दो चरणों में मतदान होना है। पहले चरण का मतदान एक दिसंबर को और दूसरे चरण का मतदान पांच दिसंबर को होगा। मतगणना आठ दिसंबर को होगी। उत्तरी गुजरात में दूसरे चरण में मतदान होना है।

पीएम मोदी ने कहा, कि ‘कांग्रेस मॉडल का अर्थ है भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, परिवारवाद की राजनीति, संप्रदायवाद और जातिवाद। वे सत्ता में बने रहने के लिए वोट बैंक की राजनीति करने और लोगों के बीच दरार पैदा करने के लिए जाने जाते हैं। हम लोगों ने कभी भी पक्षपात और भेदभाव की नीति का समर्थन नहीं किया। यही वजह है कि युवा हम पर विश्वास जता रहा है।’’ उन्होंने कहा, कि ‘इस मॉडल ने ना सिर्फ गुजरात को बर्बाद किया बल्कि देश को भी बर्बाद किया। यही वजह है कि देश को आगे ले जाने के लिए हमें कठिन परिश्रम करना पड़ रहा है।’’ इससे पहले, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा था कि केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी युवाओं, किसानों और मजदूरों के दिलों में पहले डर फैलाती है और फिर इसे हिंसा में बदल देती है।

पीएम मोदी ने कहा, कि ‘वे (कांग्रेस) गरीबों को हमेशा गरीब ही रखना चाहते हैं ताकि वह सरकार पर निर्भर रहें।’’ उन्होंने कहा कि आज के युवाओं को भरोसा है कि भाजपा की नीतियां उनके लिए भविष्य में अधिक अवसरों का निर्माण करेंगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि 20 से 25 साल के युवाओं को संभवत: पता नहीं होगा कि मेहसाणा जिले के लोगों को पानी और बिजली की कमी सहित कितने संकटों से गुजरना पड़ता था। उन्होंने कहा, कि ‘उन दिनों सूखा भी आम था। हम लोगों (भाजपा) ने गुजरात को प्राकृतिक आपदाओं और सीमित संसाधनों के बीच समृद्धि की राह पर पहुंचाया है। पहले के चुनावों में बिजली और पानी प्रमुख मुद्दा हुआ करते थे। आज विपक्ष इन मुद्दों पर कुछ नहीं बोल सकता क्योंकि उनका समाधान कर दिया गया है।’’

ज्ञात हो कि 2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने से पहले मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के शासन में बिजली कनेक्शन की मांग को लेकर प्रदर्शन करने वालों की पुलिस की गोली से मौत तक हुई और इनमें युवा तथा किसान भी थे। उन्होंने कहा, कि ‘बिजली का कनेक्श्न पाने के लिए लोगों को घूस देना पड़ता था। इस स्थिति को बदलने के लिए हमने बिजली क्षेत्र में सुधार की शुरुआत की। दो दशक पहले बिजली के महज पांच लाख कृषि कनेक्शन थे और अब गुजरात में ऐसे कनेक्शन की संख्या 20 लाख है। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि गुजरात में सौर ऊर्जा का उत्पादन 8,000 मेगावाट तक पहुंच गया है जबकि पवन ऊर्जा के माध्यम से 10,000 मेगावाट तक बिजली का उत्पादन हो रहा है। प्रधानमंत्री आज दाहोद, वड़ोदरा और भावनगर में भी चुनावी रैलियों को संबोधित करने वाले हैं।