पंचांग और शुभ मुहूर्त 23 नवंबर 2022

Spread the News

शुभ विक्रम संवत्-2079, शक संवत्-1944, हिजरी सन्-1443, ईस्वी सन्-2022
संवत्सर नाम-राक्षस
अयन-दक्षिणायण
मास-मार्गशीर्ष (अगहन)
पक्ष-कृष्ण
ऋतु-हेमन्त
वार-बुधवार
तिथि (सूर्योदयकालीन)-अमावस्या
नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-विशाखा
योग (सूर्योदयकालीन)-शोभन
करण (सूर्योदयकालीन)-चतुष्पद
लग्न (सूर्योदयकालीन)-वृश्चिक
शुभ समय- 6:00 से 9:11, 5:00 से 6:30 तक
राहुकाल- दोप. 12:00 से 1:30 बजे तक
दिशा शूल-ईशान
योगिनी वास-ईशान
गुरु तारा-उदित
शुक्र तारा-उदित
चंद्र स्थिति-वृश्चिक
व्रत/मुहूर्त-देवपितृकार्य अमावस्या/सर्वार्थसिद्धि योग/अमृतयोग/शुक्रोदय पश्चिमे (मतांतर)
यात्रा शकुन-हरे फल खाकर अथवा दूध पीकर यात्रा पर निकलें।
आज का मंत्र-ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:।
आज का उपाय-पीपल के वृक्ष के नीचे मिष्ठान व जल रखकर दीप प्रज्ज्वलित करें।
वनस्पति तंत्र उपाय- अपामार्ग के वृक्ष में जल चढ़ाएं।