चंडीगढ़ में हरियाणा की विधानसभा को जमीन देने के प्रस्ताव पर पंजाब के नेताओ ने खासी आपत्ति जताई: जेल मंत्री

Spread the News

हरियाणा कैबिनेट मंत्री रणजीत सिंह चौटाला की अलग अलग मुद्दों पर प्रतिक्रिया दी है। बता दें जेल मंत्री ने कानून एवम न्याय के लिए गठित संसदीय स्थाई समिति ने जेल में बंद कैदियों को दी जा रही कानूनी सहायता और अन्य व्यवस्थाओं की समीक्षा करने के लिए गुरुग्राम की जेल भौंडसी का दौरा किया। इसी बीच गुरमीत राम रहीम की पैरोल पर बोले भी जेल मंत्री। उन्होंने कहा हमारा काम है, उसका खाना पीना देखना। उसकी सुरक्षा को देखना। जब पैरोल पर जाना उसको पैरोल देना। पैरोल हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट या डिस्ट्रिक्ट जेल देती है। पैरोल देने के निद्रेश उनके होते है। हमारी ड्यूटी उसकी जेल के अंदर तक सीमित है। जब वापिस आ जाएगा उसको जेल में ले लेना।

जेल के बाहर गुरमीत राम रहीम द्वारा सत्संग करने पर जेल मंत्री ने कहा कि कानून और नियम को न हम बदल सकते और ना ही वो बदल सकता है।
जेलों में मोबाइल मिलने की धटना में रोकथाम नही लग रही। हमारी जेलों से कैदी ना भागे और ना ही उनका मर्डर हुआ। हमारी जेले बाकी प्रदेश की जेलों से ज्यादा सुरक्षित और अच्छी है।मोबाइल मिलना बहुत छोटी चीजे है। हमारे यहाँ जेलों में बहुत सख्ती है।इसके साथ ही उन्होंने चंडीगढ़ में हरियाणा की विधानसभा को जमीन देने के प्रस्ताव पर पंजाब के नेताओ ने खासी आपत्ति जताई। जब पजांब हरियाणा का बंटवारा हुआ। उस वक्त हिंदी भाषी इलाके हरियाणा को दिए जाने थे। जिसमें चंडीगढ़ और खरड़ भी शामिल था।लेकिन उस वक्त पंजाब में अकालियों का दबदबा था। जिस बजह से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इस प्रस्ताव को अमलीजामा नही पहनाया गया।

चंडीगढ़ में हरियाणा को जमीन देना यह काम केंद्र का है। पंजाब के नेता मात्र वोटो के लिए इस तरह के बयान दे रहे है।पंजाब के नेता इस पर बस राजनीति कर रहे है। वह कुछ भी नही कर सकते। चंडीगढ़ में लव जिहाद जैसा मामला सामने आने पर जेल मंत्री ने कहा कि ऐसे मामले किसी को भी अच्छे नही लगते। यह तो हजारों सालों से होता आ रहा है।सभी लोग इन बातों को कंडम करते है कि ऐसी बाते नही होनी चाहिए। यह समाज और जिसके साथ हुआ है सभी को कलंकित करता है।ऐसी घटनाएं नही होनी चाहिए। हमारी जेलों में संख्या से ज्यादा कैदी है।अगले 2 महीनों में सारी जेलों का निरीक्षण करूगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल से कहकर हमने सभी जेलों से वरिष्ठ अधिकरियो को नई स्कार्पियो गाड़िया दी है। नई जेले दादरी और फतेहाबाद में बन रही है। इसके इलवा एक रोहतक में भी जेल बन रही है।