11 साल की मासूम को किया अगवा, फिरौती के 30 लाख नहीं मिले तो उतार दिया मौत के घाट

Spread the News

सोनीपत: एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार करने की घटना सामने आई है जहां 11 साल की मासूम की फिरौती न देने के चलते गाजियाबाद की नंद ग्राम थाना क्षेत्र में मौत कर दी गई। गाजियाबाद की नंद ग्राम थाना क्षेत्र से अगवा कर बुलंदशहर में बच्ची की हत्या मामले में पोस्टमार्टम के बाद शव को सोनीपत के पैतृक गांव टोंकी मनोली में लाया गया। बच्ची के परिजनों ने मामले में ठोस कार्रवाई कर आरोपियों को कड़ी सजा देने की मांग की है।

जानकारी के मुताबिक सोनीपत के गांव टोंकी मनौली के रहने वाले मोनू की शादी गाजियाबाद के नंद ग्राम निवासी ममता के साथ हुई थी। मोनू से ममता को दो बच्चे खुशी व विवेक थे। हालांकि बाद में सड़क हादसे में मोनू की मौत हो गई थी। इसके चलते ममता की शादी उसके देवर सोनू के साथ कर दी गई। ममता की बेटी खुशी यूपी में अपने नाना के घर में रह रही थी। 11 साल की खुशी तीसरी कक्षा में पढ़ाई कर रही थी।

रविवार को खुशी का किया गया अपहरण

प्राप्त जानकारी के अनुसार खुशी का रविवार को नंद ग्राम में अपहरण कर लिया गया था। उसी शाम सोनू के पास बेटी के अपहरण करने का फोन आया। और 30 लाख रूपए की फिरौती मांगी की गई थी लेकिन पैसे ना मिलने पर उसने बच्ची को मौत के घाट उतार दिया। जिसके बाद बच्ची का शव बुलंदशहर के सराय छबीला क्षेत्र में मिला था। पुलिस ने बच्ची के पड़ोस में रहने वाले एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। बुधवार को बच्ची का शव पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया है । यह भी सामने आया है कि आरोपी को यह मालूम था कि एक्सीडेंट क्लेम से परिवार को पैसे मिलने वाले हैं और उसी पैसों के लालच के चक्कर में आरोपी ने लड़की का अपहरण कर डिमांड की हालांकि पैसे ना देने के कारण उसने बच्ची को मौत के घाट उतार दिया। वहीं, पूरे मामले में आरोपी की गिरफ्तारी यूपी में हो चुकी है। लेकिन परिवार कठोर से कठोर कार्रवाई करने की मांग कर रहा है।

गौरतलब है कि मृतका की मां ममता को कॉल कर 30 लाख रूपए की फिरौती मांगी गई थी। लेकिन पैसे ना देने के कारण ममता की बेटी की हत्या कर दी गई और आरोपी को यह भनक लग गई थी कि पीड़ित ममता के पति के एक्सीडेंटल क्लेम के पैसे आने हैं और इसी के चलते आरोपी ने षड्यंत्र रच पहले ममता के मायके से लड़की को अगवा कर फिरौती मांगी थी और फिरौती नहीं दी तो ताकि बेटी को मौत के घाट उतार दिया।