कुरुक्षेत्र: इटली जाने की चाहत में शाहाबाद के युवक ने गंवाई जान

Spread the News

कुरुक्षेत्र: करीब 3 महीने पहले इटली जाने के लिए एजेंट के साथ शाहाबाद से निकले गुरविंदर सिंह का शव बुधवार को शाहाबाद पहुंचा है। शाहाबाद पहुंचने के बाद परिवार के सदस्यों ने शव को गाडी में रख कर गृह मंत्नी अनिल विज के निवास अम्बाला की ओर कूच किया। परिवार का आरोप था कि पुलिस प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा है क्योंकि सभी आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार ही नहीं किया है। इस कारण परिवार अनिल विज से मिलने के लिए गया, मगर परिवार के सभी सदस्यों को अनिल विज से मिलने नहीं दिया गया। सिर्फ 3 पारिवारिक सदस्यों को अनिल विज से मिलने हेतु परिमशन मिली, जिनसे मिलने पर गृह मंत्नी ने आश्वासन दिया कि वीरवार शाम तक सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आश्वासन के बाद गुरविंदर के शव को शाहाबाद लाया गया और उसका अंतिम संस्कार किया गया।

संजीव कुमार पुत्न गुरदेव सिंह निवासी गांव शांति नगर कुरड़ी, हाल निवासी माजरी मोहल्ला, शाहाबाद ने बताया कि गुरविंदर उसका छोटा भाई था। आज गृह मंत्नी अनिल विज से मिलने के बाद उन्होंने पुलिस से गुरविंदर का पोस्टमार्टम करवाने बारे आग्रह किया था, मगर पुलिस ने पोस्टमार्टम किए बिना जबरदस्ती शव का अंतिम संस्कार करवा दिया है। संजीव नेबताया कि आज से कुछ दिन पहले तक भी आरोपी एजेंटों का दावा था कि गुरविंदर को विदेश में पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और वह जिंदा है, जबकि जम्बोलिया (रोमानिया) में रहने वाले भारतीयों ने परिवार को एक फोटो भेज कर 24 जुलाई को यह बता दिया था कि रोमानिया के गांव सेनाई में गुरविंदर का शव पुलिस को मिला है।

क्या था पूरा मामला:-
संजीव कुमार ने बताया कि उसका छोटा भाई गुरविंद सिंह 10+2 पास था और कामकाज के लिए विदेश में जाना चाहता था। इस दौरान प्रिंस पुत्न वीर सिंह, उसके चाचा बलकार सिंह पुत्न गरीब सिंह निवासीगण गांव गौरिसया (अम्बाला) और बिट्टू पुत्न नछतर पाल निवासी गांव इस्माईलपुर (कुरु क्षेत्न) ने उनसे संपर्क कर बताया कि वे पिछले काफी सालों से युवाओं को विदेश में भेजने का काम करते हैं और बहुत लड़कों को विदेश में नौकरी भी लगवा चुके है।शिकायतकर्ता के अनुसार आरोपियों के साथ यह बातें जून 2022 में हुई, जब वे उनके घर आते जाते थे। पहली बार वे उनके घर 7 जून 2022 को आए थे। दो- तीन चक्कर लगाने बाद उन्होंने कहा यदि आपका मन बन गया हो, तो वे गुरविन्द्र को 15 लाख रु पये में विदेश इटली भेज कर उसे काम भी दिलवा देंगे। संजीव ने बताया कि जुलाई 2022 में उन्होंने आरोपियों को अपने घर शाहाबाद बुलाया और उन्हें गुरविंदर का पासपोर्ट, फोटोग्राफ, कुछ अन्य दस्तावेज व 15 लाख रूपये दे
दिए। शिकायतकर्ता के अनुसार 11 जुलाई 2022 सुबह 4 बजे आरोपी चार अन्य लड़को के साथ आए, जिन्हें उन्होंने विदेश भेजना था। वे गुरविंदर को भी अपने साथ ले गए। उन्होंने बताया कि वे दिल्ली एयरपोर्ट जा रहे है और उसे भी अन्य लड़को के साथ जहाज में बैठ कर आएंगे। संजीव ने बताया कि उसके बाद सांय करीब 4 बजे उसकी गुरविंदर से बात हुई, तो उसने बताया कि वे लोग तुर्की पहुंच गए है, उसके बाद हम सिर्वया जाएंगे। फिर 13 जुलाई को गुरविन्द्र का एसएमएस उसके फोन पर आया कि वह सिर्वया पहुंच चुका है। उसी दिन संजीव की बात आरोपी प्रिंस से हुई, जिसने उसे फोन पर कहा कि आपका भाई विदेश है और दो तीन दिन में इटली पहुंच जाएगा। इस दौरान 14 जुलाई को संजीव के फोन पर गुरविन्द्र का फोन आया और उसने बताया कि हमें डोंकी के रास्ते एजेंटों के माध्यम से सिर्वया से रोमानिया से जाया जाएगा।