ट्रैकिंग के शौकीन अब पहाड़ों में नहीं होंगे गुम, Tourism Department ने ट्रैकर के पंजीकरण के लिए तैयार की App

Spread the News

शिमलाः पहाड़ों में ट्रेकिंग के शौकीन देश-विदेशी कई सैलानी प्रदेश में बिना पंजीकरण के कठिन व जोखिम भरे मार्ग में ट्रैकिंग के लिए निकल पड़ते हैं। ट्रेकर के रूट से भटकने के कई मामले सामने आ रहें हैं। यहां तक कई तो जान भी गवां चुके हैं। विभाग ने इन सभी परिस्थितियों से निपटने के लिए एप्प बनाई हैं। इस एप्प पर रेजिस्ट्रेशन के बाद ट्रेकर को रूट की सही जानकारी के साथ पूरा मार्गदर्शन भी मिलेगा।

पर्यटन विभाग के प्रबंध निदेशक अमित कश्यप ने बताया कि प्रदेश में ट्रेकिंग के लिए आने वाले सैलानी बिना पंजीकरण के रूट पर चले जाते हैं। रूट की सही जानकारी न होने से कई बार वह मुसीबत में फंस जाते हैं। पर्वतारोहियों की सुविधा के लिए विभाग ने एक एप्प तैयार की हैं, जिसमें रूट की पूरी जानकारी उपलब्ध होगी। इसमें रेड, ऑरेंज व ग्रीन तीन श्रेणीयों में रुट्स को विभाजित किया गया हैं। पर्यटन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर इसका लिंक उपलब्ध करवाया गया है।

एप्प में हिमाचल के सभी ट्रैकिंग रूट की जानकारी दी गई है। साल के कौन से समय में कौन सा रूट ट्रैकिंग के लिए उपयुक्त है। यह जानकारी भी इसमें दी गई हैं। एप्प में पंजीकरण के बाद इसकी जानकारी संबंधित जिला उपायुक्त व स्थानीय एसएचओ को मिल जाएगी और यदि ट्रेकर्स का दल बताई गई समयावधि में नहीं लौटता हैं तो इसकी सूचना संबंधित अधिकारियों को मिल जाएगी, जिससे रेस्क्यू में सहायता मिलेगी और समय रहते बचाव कार्य किया जा सकेगा।