चीन-लाओस रेलवे से दोनों देशों के लोगों को बहुत लाभ पहुंचा

चीन और लाओस के राष्ट्राध्यक्षों के उपस्थिति में पांच सालों तक निर्मित चीन-लाओस रेलवे पर यातायात 3 दिसंबर 2021 को शुरू हुआ। पिछले एक साल में इस रेलवे से 80 लाख से अधिक लोगों और 1 करोड़ टन से ज्यादा सामान का परिवहन किया गया। चीन-लाओस रेलवे ने न सिर्फ दोनों देशों के आर्थिक विकास में सहायता दी, बल्कि दोनों देशों के लोगों को भी बहुत फायदा पहुंचाया है।

चीन के युन्नान प्रांत के खुनमिंग शहर और लाओस के वियनतियाने शहर को जोड़ने वाले चीन-लाओस रेलवे की कुल लंबाई 1,035 किलोमीटर है। रेलवे पर यातायात शुरू होने के बाद खुमिंग से वियनतियाने तक पहुंचने में सिर्फ 10 घंटे लगते हैं। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि चीन-लाओस रेलवे दोनों देशों के बीच आपसी लाभ वाले सहयोग का प्रतीक है। इससे चीन-लाओस भाग्य समुदाय प्रतिबिंबित हुआ है। रेलवे पर यातायात शुरू होने के चलते चीन और लाओस ने रेलवे से जुड़े क्षेत्रों का विकास करने में सहयोग किया। ऐसे में दोनों देशों के बीच और उच्च स्तरीय सहयोग कायम रहा और रेलवे से जुड़े क्षेत्र समृद्ध बने।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 30 नवंबर को चीन की यात्रा पर आए लाओस की जन क्रांतिकारी पार्टी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव, राष्ट्रपति थोंग्लौन सिसोलिथ के साथ मुलाकात की। शी चिनफिंग ने कहा कि चीन-लाओस रेलवे से न सिर्फ दोनों देशों के लोगों को फायदा पहुंचा, बल्कि बेल्ट एंड रोड और मानव समुदाय के साझे भविष्य के निर्माण में आदर्श मिसाल खड़ी की है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)