9 दिसंबर से शुरू होगा सात दिवसीय कला महोत्सव, राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित करेंगे उद्घाटन, पोस्टर लांच

Spread the News

चंडीगढ़: भारतीय विद्या भवन का नाम चंडीगढ़ ही नहीं बल्कि देश के बड़े शिक्षा संस्थानों में गिना जाता है। अब भारतीय विद्या भवन शिक्षा के साथ-साथ कला व संस्कृति में भी एक नया अध्याय जोड़ने जा रहा है। भारतीय विद्या भवन व चंडीगढ़ की ओर से इन्फोसिस फाउंडेशन बेंगलुरू के साथ मिलकर पहला कंटेम्परेरी आर्ट फेस्टिवल करवाने जा रहा है। ये फेस्टिवल 9 से 15 दिसंबर तक भारतीय विद्या भवन सेक्टर-27 के ऑडिटोरियम में हाेगा। इस दौरान लोगों के लिए निशुल्क प्रवेश होगा।

7 दिन के इस कला महोत्सव का उद्घाटन पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित करेंगे। इस मौके पर इन्फोसिस मोहाली के प्रमुख समीर गोयल, इन्फोसिस चंडीगढ़ के प्रमुख अभिषेक गोयल, भारतीय विद्या भवन बेंगलुरू के अध्यक्ष केजी राघवन भी उपस्थित होंगे जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता भारतीय विद्या भवन चंडीगढ़ के अध्यक्ष आरके साबू करेंगे।

इस कार्यक्रम की खास बात ये रहेगी कि इसका भारतीय विद्या भवन चंडीगढ़ और बेंगलुरू के यू-ट्यूब चैनल पर सीधा प्रसारण भी होगा। देश-विदेश में बैठे लोग व भवन विद्यालय के पुराने छात्र इस कार्यक्रम को दुनिया में कहीं भी बैठकर देख सकेंगे। चंडीगढ़ में भारतीय विद्या भवन व इंफोसिस फाउंडेशन की ओर से पहली बार इस तरह का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के जरिए लोगों को संगीत, कला, नाटक व अध्यात्म से जुड़ने का अवसर मिलेगा। हालांकि भारतीय विद्या भवन व इंफोसिस फाउंडेशन की ओर से पुणे व बेंगलुरू में ऐसे आयोजन पहले भी हो चुके हैं।

ये कार्यक्रम होंगे कला महोत्सव में
– 9 दिसंबर शाम 5 बजे आध्यात्मिक साधक गीत राव शिव अराधना की प्रस्तुति देंगी। इसके उपरांत प्राचीन कला केंद्र के कलाकार भारत अमृत मंथन की प्रस्तुति पेश करेंगे।
– 10 व 11 दिसंबर शाम 5 बजे “कर्मठता से पूर्णता की ओर” आर्ट एग्जीबिशन लगेगी जिसमें 25 कलाकार अपनी कला दिखाएंगे। 10 दिसंबर की शाम को ही इबादत ग्रुप की ओर से कव्वाली की प्रस्तुति रहेगी।
– 11 दिसंबर शाम 5 बजे अमृतसर से गुरु रोहित अश्व बाली और राजविंदर कौर की ओर से संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा।
– 12 दिसंबर को सुखमणि कोहली की ओर से निर्देशित नाटक रोमियो जूलियट और सात मस्करे का मंचन होगा। इसी दिन रोपड़, पंजाब से आए गायक हरदीप कैंथ की प्रस्तुति होगी।
– 13 दिसंबर को काव्य गोष्ठी होगी और एक संगीत कार्यक्रम होगा।
– 14 दिसंबर को गायक व म्यूजिक टीचर पूरबी बरुआ की प्रस्तुति होगी। इसके बाद पिता-पुत्र राहुल व भरत गुप्ता की जोड़ी की ओर से भारतनाट्यम पेश किया जाएगा।
– 15 दिसंबर गायक पूनम राजपूत की प्रस्तुति होगी और फिर शहर के मशहूर थिएटर आर्टिस्ट चक्रेश कुमार की ओर से एक नाटक ” फर्स्ट टीचर ” का मंचन किया जाएगा।