गुरु काशी यूनिवर्सिटी द्वारा जतिंदर जे मिन्हास, भगवान सिंह जौहल और जतिंदर सिंह मंड को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से किया गया सम्मानित

Spread the News

बठिंडा: गुरु काशी यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ बेसिक साइंसेज एंड ह्यूमैनिटीज के इतिहास विभाग द्वारा प्रो. डॉ. जितेन्द्र सिंह बल, कुलाधिपति के दिशा निर्देशों व प्रो. (डॉ.) एस. के. बावा, वाईस चांसलर के नेतृत्व में विश्व स्तर पर सामाजिक, आर्थिक विकास और आध्यात्मिक मार्गदर्शन के लिए जतिंदर जे मिन्हास, कनाडा,भगवान सिंह जौहल, गुरुमती विचारधारा के प्रमुख कथावाचक एवं विद्वान और जतिंदर सिंह मंड, एआईजी, बठिंडा को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर डॉ. बॉल ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ समाज और मानवता की अथक सेवा करने वाली शख्सियतों को सम्मानित करना विश्वविद्यालय के लिए गर्व की बात है, क्योंकि उनका सम्मान छात्रों को समाज सेवा के लिए प्रेरित करेगा। डॉ. बावा ने स्वागत भाषण देते हुए समारोह का उद्देश्य समझाया और कहा कि विश्वविद्यालय का उद्देश्य न केवल शिक्षाविदों और पुस्तक पाठ्यक्रम को पढ़ाना है, बल्कि अच्छे इंसान और उत्कृष्ट नागरिक तैयार करना भी है।

मुख्य अतिथि जय मिन्हास ने अपने संघर्ष की कहानी साझा करते हुए कहा कि उनके द्वारा कनाडा और भारत में गरीब छात्रों, मरीजों और जरूरतमंदों के लिए कई प्रोजेक्ट चलाए जा रहे हैं, जिससे हजारों की संख्या में छात्र, मरीज एवं जरूरतमंद लोग लाभान्वित हो रहे हैं, उन्होंने छात्रों से नेक इंसान बनने की अपील की। सजौहल ने युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति, मातृभाषा और बानी से जुड़ने का आग्रह करते हुए कहा कि बानी युगों युगों से अपरिहार्य है, जो मानवता की बात करता है। उन्होंने देश के लिए शहीदों के बलिदान पर प्रकाश डाला।

एआईजी मंड ने कहा कि अनुशासन बनाए रखने में लोगों का बहुत बड़ा योगदान होता है और उनके योगदान के कारण ही पुलिस अपनी जिम्मेदारी को दिल से निभाती है। समारोह में डॉ. पुष्पिंदर सिंह औलख, डॉ. अश्वनी सेठी, डॉ. अमित टुटेजा, डॉ. सनी अरोड़ा, विभिन्न विभागों के डीन और लगभग 500 शोधकर्ताओं और छात्रों ने भाग लिया।