Population के मामले में China से आगे निकला India, बना दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश

Spread the News

नई दिल्लीः संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में आबादी 8 अरब हो गई है और 2030 तक वैश्विक आबादी 8.5 अरब पहुंच जाएगी। रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ कि भारत ने जनसंख्या के मामले में चीन काे भी पीछे छाेड़ा दिया हैं। नए आंकड़ों के अनुसार 2022 के अंत तक भारत की जनसंख्या 1.417 अरब थी, जो चीन की 1.412 अरब है। जाे की आबादी से 5 करोड़ ज्यादा हैं। विश्व जनसंख्या समीक्षा ने यह भी बताया कि भारत की जनसंख्या वृद्धि धीमी हो गई है और यह संख्या कम से कम 2050 तक बढ़ने की उम्मीद है। इसके साथ ही एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत की आबादी बढ़कर 1.428 अरब हो गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, 2022 के अंत तक चीन की राष्ट्रीय जनसंख्या 141 करोड़ 17 लाख 50 हजार थी, जिनमें 31 प्रांतों, स्वायत्त क्षेत्रों और नगर पालिकाओं और सैनिकों की जनसंख्या शामिल है, लेकिन हांगकांग, मकाओ और ताइवान के निवासियों और 31 प्रांतों, स्वायत्त क्षेत्रों और नगर पालिकाओं में रहने वाले विदेशियों को शामिल नहीं किया गया है। जिसमें 2021 के मुकाबले 2022 मेें जनसंख्या में साढ़े 8 लाख की कमी आई थी। इसका श्रेय 1980 के दशक में चीन में लागू की गई एक-बच्चे की नीति को दिया जाता है। हालांकि चीन ने 2021 में इस नीति को वापस ले लिया है, लेकिन पिछले दशकों से लागू नीति के कारण चीन की जनसंख्या लगातार घट रही है।

भारत ने निर्धारित समय से पहले ये आंकड़ा पार कर लिया हैं, क्योंकि संयुक्त राष्ट्र ने पहले अनुमान लगाया था कि भारत इस साल के अंत तक दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा, लेकिन विश्व जनसंख्या समीक्षा के आंकड़ों पर नजर डालें तो भारत अपने समय से पहले ही इस स्थिति में पहुंच गया है।

2050 तक 8 देशों की आबादी बढ़ जाएगी। इन आंकड़ों से साफ है कि चीन तेजी से बूढ़ा हो रहा है, जबकि भारत की बहुसंख्यक आबादी युवा है। संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि 2022 और 2050 के बीच विश्व जनसंख्या में अनुमानित वृद्धि का आधे से अधिक सिर्फ 8 देशों में देखा जाएगा। कांगो, मिस्र, इथियोपिया, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, फिलीपींस और तंजानिया ऐसे देश हैं जिनकी जनसंख्या में वृद्धि होगी।

आपको बता दें कि भारत की जनसंख्या को लेकर हाल ही में कोई डेटा जारी नहीं किया गया है। भारत में आखिरी जनगणना वर्ष 2011 में हुई थी। भारत अपनी जनसंख्या के आंकड़े एक दशक में एक बार जारी करता है। इसके मुताबिक, भारत को नया डेटा साल 2021 में ही जारी करना था, लेकिन कोविड संकट के चलते इसे टाल दिया गया। अब तक यह ज्ञात नहीं है कि भारत अगली जनगणना कब करने जा रहा है।