सर्दियां में इन बीमारियों को जड़ से खत्म करती है मुलेठी, जानिए इसके फायदे

सर्दियां आते ही हर उम्र के लोगों को गले में सूजन व खांसी-जुकाम हाेना आम बात हैं, जिस कारण आपकाे कई तरह की दवाईयाें का सेवन करते हैं, लेकिन आज हम आपकाे एक ऐसी जड़ी-बूटी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके काेई दुष्प्रभाव नहीं हैं। मुलेठी का सेवन करने से आपकी खासी कुछ ही दिनाें में दूर हाे जाएंगी। कुछ देशों में मुलेठी का प्रयोग विशेष आहार में भी किया जाता है। इसे इम्युनिटी बूस्टर माना जाता है और यह न केवल शरीर को एलर्जी और संक्रमण से बचाता है, बल्कि गले को साफ और फेफड़ों को भी स्वस्थ रखता है। इसका उपयोग भारत और अन्य देशों में हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। मुलठी और इसका स्वाद लाजवाब होता है। यह एक जड़ी-बूटी मानी जाती है, लेकिन इसका इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है। सर्दियों में मुलेठी की जड़ या पाउडर का सेवन करने से आप इन बीमारियां से दूर रह सकते हैं-

– गले में सूजन व दर्द
– खांसी-जुकाम
– फेफड़ों के रोग
– हाई कोलेस्ट्रॉल
– कमजोर इम्युनिटी
– लिवर रोग
– स्किन डिसऑर्डर
– मोटापा

मुलेठी का काढ़ा बनाने की विधि

सर्दी की बीमारियों से बचने के लिए आप मुलेठी का काढ़ा भी पी सकते हैं। यह एक बेहतरीन आयुर्वेदिक उपाय है, जिसका सेवन करने से फेफड़ों के रोग, खांसी, गले का इंफेक्शन, कोलेस्ट्रॉल जैसी समस्याएं खत्म हो जाती हैं। काढ़ा बनाने के लिए आप एक चौथाई चम्मच मुलेठी पाउडर, एक चुटकी दालचीनी पाउडर, एक चुटकी काली मिर्च पाउडर और तुलसी की कुछ पत्तियां लेकर 1 गिलास पानी में उबालें। मिक्सचर आधा होने पर छान लें और एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार पिएं।