20 वर्षों के संघर्ष के बाद Red Deer City में सिखाें ने खाली चर्च खरीदकर बनाया गुरुद्वारा साहिब

Spread the News

टोरोंटोः 2005 के बाद से स्थानीय सिख समुदाय के अनुरोध के बाद कनाडा के रेड डियर सिटी में पहली बार एक पुराने चर्च को सिख पूजा स्थल में बदल दिया गया है। 5911 63वीं स्ट्रीट पर कॉर्नरस्टोन गॉस्पेल चैपल अब गुरु नानक दरबार गुरुद्वारा है और सप्ताह में सातों दिन सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक खुला रहेगा। खबराें के अनुसार यह लगभग 150 परिवारों, 250 अंतरराष्ट्रीय छात्रों और भारत के अस्थायी विदेशी श्रमिकों की सेवा करेगा। गुरुद्वारे के अध्यक्ष निशान सिंह संधू ने बताया, कि ‘समुदाय हर दिन बढ़ रहा है। इतने सारे लोग बीसी, कैलगरी और ओंटारियो से यहां आ रहे हैं।’’

संधू ने कहा, कि ‘यह बहुत महत्वपूर्ण है, अन्यथा हमारे पास एक साथ आने के लिए जगह नहीं है। हमने गुरुद्वारा बनाने के लिए पिछले 20 वर्षों से संघर्ष किया है।’’ इस समुदाय को कैलगरी, एडमॉन्टन और र्से, ब्रिटिश कोलंबिया में पड़ोसी सिख समुदायों से 450,000 डॉलर के निजी दान के साथ-साथ दान प्राप्त हुआ, जिससे उन्हें बिना किसी परेशानी के इमारत खरीदने की अनुमति मिली। गुरुद्वारे, जो पिछले महीने खुला था, उसमें एक बड़े बेसमेंट क्षेत्र और रसोई के साथ एक मुख्य मंजिल शामिल है। केंद्र की रसोई हर जरूरतमंद को मुफ्त शाकाहारी भोजन (‘लंगर’) प्रदान करती है।

गुरुद्वारे के उपाध्यक्ष गुरचरण सिंह गिल ने बताया, कि ‘लोग पगड़ी के बारे में नहीं जानते। लोग सिख धर्म के बारे में नहीं जानते। अब, कम से कम वे जानते हैं कि हम कौन हैं।’’ गिल ने बताया कि समुदाय को इस साल ‘नगर कीर्तन’ परेड आयोजित करने और समुदाय और शहर में इसकी उपस्थिति बढ़ने की उम्मीद है। रिपोर्ट के अनुसार, समुदाय के सदस्य रसोई के उन्नयन, एक परिधि बाड़ के निर्माण और निशान साहिब के रूप में जाने जाने वाले सिख ध्वज की स्थापना की योजना बना रहे हैं।

अल्बर्टा प्रांत में रेड डियर काउंटी द्वारा पिछले साल अगस्त में गुरुद्वारे के अनुरोध को मंजूरी दिए जाने के बाद पिछले महीने सिख समुदाय ने इमारत को अपने कब्जे में ले लिया था। इससे पहले सिख परिवार महीने में एक बार बोवर कम्युनिटी सेंटर में भवन खरीद से पहले प्रार्थना के लिए इकट्ठा होते थे।