WFI के अध्यक्ष Brij Bhushan हुए एक बड़ी साजिश का शिकार, कहा- अगर मैंने मुंह खोला तो सुनामी आ जाएगी

गोण्डा: यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के अध्यक्ष और कैसरगंज के सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने शुक्रवार को कहा कि वह एक बड़ी साजिश का शिकार हुए हैं और जब वह “मुंह खोलेंगे तो सुनामी आ जायेगी।” बृजभूषण ने नवाबगंज स्थित नंदनीनगर मिनी स्टेडियम में पत्रकारों से बातचीत में कहा, “मैं विदेश नहीं भागा हूं बल्कि यहीं पर हूं। उनकी सरकार में किसी से कोई बातचीत नहीं हुई है। सही बोलूं तो मेरे साथ साजिश हुई है जिसका खुलासा मैं शाम को आपके समक्ष करूंगा।”

नई दिल्ली में धरना दे रहे देश के दिग्गज पहलवानों विशेष कर महिला पहलवान विनेश फोगाट के रवैये के प्रति नाखुशी का इजहार करते हुए बृजभूषण ने कहा, “अगर मैं मुंह खोल दूंगा तो सुनामी आ जायेगी।” यहां शनिवार से शुरू हो रही ओपेन नेशनल कुश्ती चैंपियनशिप की तैयारियों का निरीक्षण करते हुए कुश्ती महासंघ अध्यक्ष ने कहा कि चैंपियनशिप में 300 पहलवान भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह 23 जनवरी तक कहीं जाने वाले नहीं बल्कि यहीं स्टेडियम में जमे रहेंगे।

गौरतलब है कि तीन बार की राष्ट्रमंडल खेल गोल्ड मेडलिस्ट विनेश फोगाट ने गुरुवार को पहलवानों और खेल मंत्रालय की बैठक के बाद कहा था कि खिलाड़ी सिर्फ बृजभूषण का इस्तीफा नहीं बल्कि उनके खिलाफ कार्रवाई भी चाहते हैं। उन्होंने कहा था, “यह कुश्ती का दुर्भाग्य होगा, अगर देश की बेटियां सामने आयेंगी और बतायेंगी कि हमारे साथ क्या हुआ था। हम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उम्मीद कर रहे हैं कि देश की बेटियों को इतना मजबूर न किया जाये कि हमें यह काला दिन देखना पड़े।”

उल्लेखनीय है कि विनेश, साक्षी मलिक और बजरंग पूनिया सहित कई पहलवान तीन दिन से डब्ल्यूएफआई के खिलाफ धरने पर बैठे हैं, जहां उन्होंने सिंह और महासंघ के कोचों पर यौन उत्पीड़न एवं जान से मारने की धमकी देने जैसे कई गंभीर आरोप लगाये हैं। विनेश ने कहा, “बात सिर्फ इस्तीफे की नहीं है, हम इस्तीफा लेकर रहेंगे और अगर मजबूर किया गया तो उन्हें जेल भी भेजेंगे। हम चाहते हैं कि वह इस्तीफा दें और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाये। खेल मंत्रालय ने उन्हें कार्रवाई का आश्वासन दिया है मगर पहलवान संतुष्ट नहीं हैं और तुरंत कार्रवाई चाहते हैं।”