मैं आम आदमी दा पुत्त, ऐही पुराने लीडरां नूं दुख: CM Mann

Spread the News

अबोहर : पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शुक्रवार को कहा कि एक आम आदमी के बेटे को मुख्यमंत्री के रूप में राज्य की सेवा करने का मौका मिला है, लेकिन पारंपरिक राजनीतिक दल इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहें हैं, जिसके कारण वे उनके खिलाफ झूठा प्रचार कर रहे हैं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के निवासियों को मुआवजा वितरण के अवसर पर यहां एक सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में पारंपरिक राजनीतिक दलों के जनविरोधी रुख के कारण राज्य के लोग अब इन पार्टियों पर भरोसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता ने 2022 के विधानसभा चुनाव में इन पार्टियों को करारी शिकस्त दी है जिससे ये पार्टियां अब लड़खड़ा रही हैं। भगवंत मान ने कहा कि इन पार्टियों के नेता अब लोगों को गुमराह करने के लिए आपस में मिलीभगत कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने इन नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा, पहले ये नेता जहां भी जाते थे, उनका फूलमालाओं से स्वागत किया जाता था, लेकिन अब चुनाव में हराकर उनका स्वागत किया जाता है। प्रदेश की जनता ने इस बार साधारण परिवार के उन बेटे-बेटियों को अपना प्रतिनिधि चुना है, जो पूरी लगन और लगन से अपना कर्त्तव्य निभा रहे हैं, जबकि इसके विपरीत सत्ता में बैठे ये परंपरागत दल अपने दायित्वों का सही ढंग से निर्वहन करने में बुरी तरह विफल रहे हैं। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि जब प्रदेश बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, विदेश जाने वाले युवाओं के जत्थे और अन्य समस्याओं से जूझ रहा था, तब ये नेता अवैध तरीके से अपनी तिजोरी भरने में लगे थे। उन्होंने कहा कि उन्होंने राज्य और लोगों की परवाह किए बिना अपने महल और व्यापारिक साम्राज्य बनाए। पंजाब की पीठ में छुरा घोंपने वाले इन नेताओं को इतिहास कभी माफ नहीं करेगा।

पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बादल लंबे समय तक राज्य के वित्त मंत्री रहे लेकिन उन्होंने हमेशा कहा कि राज्य का खजाना खाली है। उन्होंने कहा कि राज्य के कल्याण के लिए वित्त मंत्री के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभाने में विफल रहने के बाद अब वह भाजपा की नाव पर सवार हो गए हैं। भगवंत मान ने कहा कि पूर्व वित्त मंत्री की उर्दू शायरी के बिना राज्य को क्या दिया। उनके भाजपा में शामिल होने के बाद अब भाजपा का कल्याण भी नहीं होगा। पारंपरिक राजनीतिक दलों पर हमला बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे तुच्छ मुद्दे उठाकर घडिय़ाली आंसू बहा रहे हैं। जब राज्य की जनता ने उन्हें सत्ता संभालने का मौका दिया था तो ये नेता चुप क्यों हो गए थे। अब ये नेता राज्य से जुड़े विभिन्न मुद्दों को लेकर लोगों को गुमराह करने के लिए शोर मचा रहे हैं।

कांग्रेस और अकालियों की आलोचना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इन नेताओं ने अपने राजनीतिक हितों के लिए राज्य में गैंगस्टरों को पनाह दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि ये गैंगस्टर हमारी सरकार के सत्ता में आने के बाद पैदा नहीं हुए बल्कि कांग्रेस और अकाली नेताओं ने अपनी सरकारों के दौरान इन गैंगस्टरों को पनाह दी क्योंकि ये नेता और पार्टियां अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति के लिए ऐसे युवाओं को बंदूकें देती थीं। मुख्यमंत्री ने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि 2020 में बल्लुआना में आई बाढ़ से भारी नुक्सान हुआ, लेकिन तत्कालीन सरकार ने बयानबाजी के अलावा लोगों को राहत देने के लिए कुछ नहीं किया। तब सरकार ने बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा देने के बजाय मामले को लटका कर प्रभावितों की परेशानी बढ़ा दी। तत्कालीन सरकार की मनमानी इस बात से भी झलकती है कि लोगों को मुआवजा देने के लिए एक रुपया भी खर्च नहीं किया गया।

इस मौके पर उन्होंने बाढ़ पीड़ितों को 32 करोड़ रुपए का मुआवजा वितरित किया गया है, जिसमें से 25 करोड़ रुपए की राशि बल्लुआना विधानसभा क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित लोगों को वितरित की गई। इससे पूर्व कैबिनेट मंत्री ब्रह्म शंकर जिम्पा ने अपने संबोधन में पंजाब सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों की जानकारी साझा की। इस अवसर पर फाजिल्का के विधायक नरेन्द्रपाल सिंह सवाना, जलालाबाद विधायक जगदीप कंबोज गोल्डी, विधायक गुरमीत सिंह खुडियां, वित्त आयुक्त (माल) केएपी सिन्हा, उपायुक्त डा. सेनू दुग्गल, एसएसपी भूपिंदर सिंह सिद्धू, जिला योजना बोर्ड के अध्यक्ष सुनील सचदेवा, हिमांशु बिंदल, धर्मवीर गोदारा आदि भी मौजूद रहे।