शराब पीकर गाड़ी चलाने के मामले में दिल्ली यातायात पुलिस को महिला आयोग का नोटिस, मांगा जवाब

Spread the News

 नयी दिल्ली: शराब पीकर गाड़ी चलाने के मामले में दिल्ली महिला आयोग ने शनिवार को राजधानी की यातायात पुलिस को नोटिस देकर जवाब मांगा है कि इस खतरे से निपटने के लिए उसकी ओर से अब तक कौन से कदम उठाए गए हैं। आयोग ने पुलिस से मंगलवार तक जवाब मांगा है।

डीसीडब्ल्यू के नोटिस में कंझावला हादसा (जिसमें 12 किलोमीटर तक कार से घसीटे जाने के बाद एक युवती की मौत हो गई थी) का जिक्र करते हुए कहा गया कि पता चला है कि आरोपी काफी नशे में थे। इसमें दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल को परेशान करने और नशे में एक व्यक्ति द्वारा चलाई जा रही कार से उन्हें कथित रूप से घसीटे जाने का भी जिक्र है। अपने नोटिस में आयोग ने कहा कि शराब पीकर गाड़ी चलाना ना केवल सड़क दुर्घटना का सबसे आम कारण है, बल्कि इससे महिलाओं की सुरक्षा को भी बड़ा खतरा उत्पन्न हो गया है।

आयोग ने कहा इस खतरे को तुरंत रोकने की जरूरत है। यह भी कहा गया कि आयोग ने कोविड-19 के दौरान नशे में गाड़ी चलाने वालों की पहचान करने में दिल्ली पुलिस द्वारा सांस के जरिये शराब पीने की जानकारी देने वाली मशीन (ब्रेथ एनालाइजर मशीन) का इस्तेमाल नहीं करने का भी मुद्दा उठाया। नोटिस में आयोग ने पूछा है कि ‘ब्रेथ एनालाइजर’ का इस्तेमाल फिर से शुरू किया गया है या नहीं, यदि नहीं तो क्यों? आयोग ने पुलिस से उसके पास मौजूद काम कर रहीं मशीनों की संख्या बताने के लिए भी कहा है। आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि दिल्ली में लोग जिस बेशर्मी से शराब पीकर गाड़ी चला रहे हैं, वह महिलाओं को लेकर गंभीर सुरक्षा चिंता का विषय है।