चीन का सबसे बड़ा त्योहार- वसंत महोत्सव आ रहा है

Spread the News

वसंत महोत्सव चीनी लोगों के लिए सबसे बड़ा और सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। चीनी चंद्र पंचांग के अनुसार, इस साल वसंत महोत्सव 22 फरवरी को पड़ रहा है। वसंत महोत्सव को चीनी पारंपरिक नववर्ष के रूप में भी जाना जाता है। वसंत महोत्सव मनाने का समय वास्तव में एक दिन नहीं होता है। यह लगभग एक महीने तक जारी रहता है। इस दौरान सात दिन का सरकारी अवकाश रहता है।  दरअसल, देश में कोरोना नियंत्रण नीतियों में बड़े सुधार के बाद यह पहला वसंत उत्सव है, इसलिए इस आगामी वसंत त्योहार को लेकर चीन के लोगों में खास उत्साह दिखाई दे रहा है। सड़कों पर गाड़ियों की जाम हो चला है और शॉपिंग मॉल और बाजारों में फिर से भीड़ उमड़ने लगी है।

चीनी पारंपरिक नववर्ष का इतिहास लगभग 4 हजार साल पुराना है। इसकी उत्पत्ति देवताओं और पूर्वजों की पूजा, धन कमाने और राक्षसों को भगाने से संबंधित है। पहले वसंत उत्सव को कोई नाम नहीं दिया गया था और न ही इसके उत्सव की कोई निश्चित तिथि थी। चीनी चंद्र पंचांग के विकास के साथ पारंपरिक नए साल की तारीख तय हो गई है।  आम राय यह है कि 2 हजार साल पहले, हान राजवंश के दौरान, नए साल का जश्न पूरे देश में लोकप्रिय हो गया था। वहीं, 1 हजार साल पहले, सोंग राजवंश में नए साल के दिन पटाखे फोड़ना एक लोकप्रिय प्रथा बन गई थी। लोगों ने सोचा कि पटाखे फोड़ने से बुरी आत्माएं दूर भागेंगी और सुरक्षा की गारंटी होगी। 

उल्लेखनीय है कि दुनिया में सबसे पहले पटाखों और पटाखों का आविष्कार चीनी लोगों ने किया था। 100 साल पहले, चीन की तत्कालीन गणराज्य सरकार ने कृषि पंचांग के नए साल को वसंत महोत्सव का नाम दिया, ताकि इसे पश्चिमी कैलेंडर के नए साल से अलग किया जा सके। इसके बाद वसंतोत्सव का नाम फैल गया। वसंत महोत्सव के दौरान, चीन के विभिन्न क्षेत्रों में रंगारंग गतिविधियां आयोजित की जाती हैं, जो चीनी संस्कृति को महसूस करने का सबसे अच्छा मौका है, जैसे मंदिर मेला, लालटेन उत्सव, शेर नृत्य, ड्रैगन नृत्य, पहले बूझना, आतिशबाजी वगैरह-वगैरह। इस वसंत उत्सव में, देश की राजधानी पेइचिंग 10,000 विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों की मेजबानी करेगी, जिसमें 80 से अधिक पारंपरिक मंदिर मेले और पार्क यात्राएं शामिल हैं। 

बेशक, परिवार का पुनर्मिलन लोगों के लिए प्राथमिकता है। चीन में एक कहावत है, “पैसा हो या न हो, हर कोई घर वापस जाता है और नया साल बिताता है।” कहा जा सकता है कि वसंतोत्सव पारिवारिक बंधनों और मूल्यों को मजबूत करने का एक महत्वपूर्ण साधन है। त्योहार हो और खाने की बात न हो तो मजा अधूरा रह जाता है। चीन में हर त्योहार के मौके पर कुछ खास व्यंजन बनाया जाता है। वसंत ऋतु के त्योहार पर भी च्याओज़े (मोमोस) खाए बिना त्योहार अधूरा रहता है। त्योहारों पर कभी-कभी च्याओज़े के अंदर मिठाई या सिक्के डाल दिए जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि मिठाई खाने से नया साल अच्छा आता है। वहीं, सिक्‍का खाने से धन की प्राप्ति होती है। हालांकि, लोग सिक्के नहीं निगलते हैं। वसंत महोत्सव न केवल चीन में मनाया जाता है बल्कि चीनी संस्कृति के प्रभाव से, चीनी वसंत महोत्सव दुनिया भर के कई देशों और क्षेत्रों में भी मनाया जाता है। अधूरे आँकड़ों के अनुसार, लगभग 20 देशों और क्षेत्रों ने पूरे देश या कुछ शहरों के लिए चीनी वसंत महोत्सव को कानूनी अवकाश बना दिया है। 

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)