चीनी उप विदेश मंत्री सुन वेइतोंग भारतीय राजदूत रावत से मिले

चीनी उप विदेश मंत्री सुन वेइतोंग ने हाल में चीन स्थित भारतीय राजदूत प्रदीप कुमार रावत से मुलाकात की। इस दौरान सुन वेइतोंग ने बल देते हुए कहा कि चीन ने हमेशा विश्व शांति बनाए रखने और सामान्य विकास को बढ़ावा देने की विदेश नीति के उद्देश्य का पालन किया है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 20वीं राष्ट्रीय कांग्रेस की रिपोर्ट ने अगले पांच वर्षों या उससे भी अधिक समय में चीन के राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक विकास के लक्ष्यों और कार्यों को व्यापक रूप से व्यवस्थित किया है। चीन के पास विकास की उज्ज्वल संभावनाएं हैं, जो भारत सहित दुनिया भर के देशों के विकास के लिए नए अवसर लाएगी और दुनिया में अधिक स्थिरता और निश्चितता लाएगी।

उन्होंने कहा कि भारत एक प्राचीन सभ्यता, प्रमुख विकासशील देश और प्रमुख उभरती हुई अर्थव्यवस्था है, जो चीन का महत्वपूर्ण पड़ोसी है। चीन हमेशा चीन-भारत संबंधों को बहुत महत्व देता है। चीन-भारतीय सीमा पर वर्तमान स्थिति आम तौर पर स्थिर है, और आपातकालीन प्रतिक्रिया से सामान्य नियंत्रण की ओर स्थानांतरित हो रही है। दोनों पक्षों को समग्र और दीर्घकालिक दृष्टिकोण से द्विपक्षीय संबंधों को देखना चाहिए, दोनों देशों के नेताओं द्वारा प्राप्त महत्वपूर्ण आम सहमति को अच्छी तरह से लागू करना चाहिए, संचार और समन्वय को मजबूत करना चाहिए, मतभेदों को ठीक से प्रबंधित और नियंत्रित करना चाहिए, संयुक्त रूप से चीन-भारत संबंधों के स्थिर और स्वस्थ विकास को बढ़ावा देना चाहिए।

मुलाकात में रावत ने एक बार फिर सीपीसी की 20वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के आयोजन की बधाई दी और चीनी पारंपरिक वसंत त्योहार की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत चीन के राष्ट्रीय कायाकल्प का स्वागत करता है और चीन के साथ अच्छे संबंध विकसित करने का इच्छुक है। वर्तमान उथल-पुथल की अंतर्राष्ट्रीय स्थिति में भारत और चीन के बीच समन्वय को मजबूत करना दोनों पक्षों के लिए फायदेमंद है। दोनों देशों के बीच संबंधों को दीर्घकालीन नजरिए से देखा जाना चाहिए। जब भारत और चीन मिलकर काम करेंगे तभी “एशियाई शताब्दी” आ सकती है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)