जनता के लिए कूटनीति, China की कूटनीति का सफर!

Spread the News

8 जनवरी 2023 को, “चीनी और विदेशी कार्मिकों के आदान-प्रदान के लिए अंतरिम उपाय” औपचारिक तौर पर लागू किया गया, जिस पर देश और विदेश में बहुत अधिक ध्यान केंद्रित हुआ। लोकमत है कि यह जनता के लिए चीनी कूटनीति का नवीनतम अभ्यास है। साल 2022 में, जटिल महामारी की स्थिति और अंतरराष्ट्रीय व क्षेत्रीय स्थिति का सामना करते हुए, चीन की कूटनीति ने पूरी तरह से लोगों की सेवा करने के उद्देश्य का अभ्यास किया, विदेशों में चीनी देशबंधुओं के वैध अधिकारों व हितों की रक्षा की।

साल 2022 की शुरुआत में, यूक्रेन संकट पैदा हुआ। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस पर ध्यान देते हुए कई बार हर चीनी नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करने की मांग की। 28 फरवरी 2022 को, रूस और यूक्रेन के बीच अल्पकालिक युद्धविराम के दौरान, चीनी विदेश मंत्रालय ने तुरंत कांसुलर सुरक्षा आपातकालीन तंत्र को शुरु किया और आपातकालीन निकासी कार्यों को लागू किया।

इसकी याद करते हुए चीनी उप विदेश मंत्री श्ये फ़ंग ने कहा कि उस समय यूक्रेनी लोग भी बड़ी संख्या में पश्चिम की ओर हट रहे थे, स्थिति बहुत अराजक था, और एक ही गाड़ी प्राप्त करना कठिन था। यूक्रेन स्थित चीनी दूतावास ने दर्जनों बसों को किराए पर लेने की पूरी कोशिश की, और साथ ही सावधानीपूर्वक स्थानीय चीनी लोगों तथा चीनी-वित्तपोषित उद्यमों के कर्मियों को काफिले के साथ स्व-ड्राइविंग द्वारा व्यवस्थित तरीके से हटने का निर्देश दिया। दूतावास के कर्मचारियों ने उनकी रक्षा की और उन्हें कभी नहीं छोड़ा।

यह चीनी कूटनीति के इतिहास में चीनी नागरिकों का एक और बड़े पैमाने पर निकासी अभियान था, जो सबसे जटिल वातावरण और सबसे खतरनाक स्थिति में किया गया था, इसमें भाग लेने वाले दूतावासों और वाणिज्य दूतावासों की संख्या सबसे ज्यादा थी। विद्याथी तोंग हाओ ने यूक्रेन में पढ़ी थी, अब वह पूर्वी चीन के शानतोंग प्रांत की राजधानी चीनान में अपने घर में वापस लौट आया। यूक्रेन से हटने की याद करते हुए उसने कहा कि 24 फरवरी 2022 को, जब उसने पहली गोली की आवाज सुनी, तो वह और अपने साथी बहुत घबराए हुए और डरे हुए थे। लेकिन 7 मार्च को उन्हें दूतावास से सुरक्षित हटने की खबर मिली, तब उन्होंने शक्तिशाली मातृभूमि से आश्रय होने का गौरव महसूस किया।

अंत में, सभी पक्षों के संयुक्त प्रयासों से 5,200 से अधिक हमवतन लोगों को यूक्रेन के आसपास के देशों में सुरक्षित रूप से निकाला गया, और युद्धग्रस्त निकासी के परिणामस्वरूप कोई मौत या समूह घायल नहीं हुआ। यूक्रेन से प्रवासी चीनियों की निकासी ने अनगिनत चीनी लोगों को एक बार फिर महसूस कराया है कि वे चाहे कहीं भी हों, उनके पीछे एक मजबूत मातृभूमि है और उनके साथ एक गर्म दूतावास है।

साल 2022 में, चीन की कूटनीति ने दुनिया भर में श्रृंखलाबद्ध आपात स्थितियों की उचित प्रतिक्रिया दी, उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों से चीनी वासियों के निकलने के लिए समयबद्ध तरीके से सुरक्षा अनुस्मारक जारी किए, और अपहृत व्यक्तियों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किया। इसके साथ ही, महामारी के खिलाफ़ लड़ाई में विश्व भर में चीनी दूतावासों द्वारा आयोजित टीकाकरण अभियान में 180 देशों में रहने या काम करने वाले 46 लाख से अधिक चीनी नागरिकों को टीका लगवाया। विदेशों में चीनी नागरिकों की वास्तविक मांग पर ध्यान रखते हुए चीनी दूतावासों ने “स्मार्ट कांसुलर प्लेटफॉर्म” बनाने का प्रयास किया, क्लाउड-आधारित पासपोर्ट, वीडियो नोटरीकरण, ऑनलाइन अपॉइंटमेंट, मोबाइल भुगतान आदि उपायों से विदेशों में चीनियों को बहुत सुविधा मिली है।

जैसा कि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वनपिन ने कहा, “चीन की कूटनीति जनता की कूटनीति है। विदेशों में देशबंधुओं के स्वदेश लौटने की यात्रा, चीन की कूटनीति का सफर ही है। व्यापक चीनी लोग जो चाहते हैं वह चीन की कूटनीति की दिशा है। महान मातृभूमि हमेशा हर हमवतन का मजबूत समर्थन होगा।”

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)