गणतंत्र दिवस पर पुरानी 25 पाउंडर तोपों की बजाय इंडियन फिल्ड गन तोपों से दी जाएगी सलामी

Spread the News

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस पर 25 पाउंडर बंदूकों वाली पुरानी तोपों के बजाय नए 105 एमएम इंडिन फिल्ड गन से राष्ट्रीय ध्वज को 21 तोपों की सलामी दी जाएगी। यह फैसला सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को और आगे बढ़ाने के उद्देशय़ से लिया है।

दिल्ली क्षेत्र के चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल भावनीश कुमार ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम स्वदेशीकरण की ओर जा रहे हैं और वह समय दूर नहीं जब सभी उपकरण स्वदेशी होंगे।’’ उन्होंने बताया कि सेना द्वारा 74वीं गणतंत्र दिवस परेड़ में प्रर्दिशत किए जा रहे सभी उपकरण भारत में बने हैं जिनमें आकाश हथियार प्रणाली और हेलीकॉप्टर, रुद्र और एएलएच ध्रुव शामिल हैं। कुमार ने बताया,‘‘इस साल 21 तोपों की सलामी 105 मिलीमीटर इंडियन फिल्ड गन से दी जाएगी जो 25 पाउंडर का स्थान लेंगी।’’

गौरतलब है कि 2281 फिल्ड रेजीमेंट की 1940 के शुरुआत में निर्मित सात तोपों से राजपथ (अब कर्तव्य पथ) पर आयोजित गणतंत्र दिवस परेड में सलामी देने के लिए गोले दागे जाते थे। इनका निर्माण ब्रिटेन में हुआ था और इन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध में हिस्सा लिया था। कुमार ने बताया कि वर्ष 1972 में 105 इंडियन फिल्ड गन को डिजाइन किया गया था और गन कैरेज फैक्टरी जबलपुर और फिल्ड गन फैक्टरी कानपुर में इनका निर्माण होता है और वर्ष 1984 से ही ये सेवा में है।